अगरबत्ती जलाने का मंत्र और नियम | धूप जलाने का मंत्र

अगरबत्ती जलाने का मंत्र और नियम | धूप जलाने का मंत्र – भगवान को दीपक जलाने के साथ-साथ हम अगरबत्ती भी जलाते हैं. हम कुछ भी धार्मिक कार्य करने से पहले अगरबत्ती जलाते है. इसके पश्चात ही पूजा की शुरुआत की जाती हैं. ऐसा माना जाता है की किसी भी धार्मिक कार्य करने से पहले अगरबत्ती को जलाया जाए. तो वहा का वातावरण सुंगंधमय और सकारात्मक बनता हैं.

Agarbatti-jlane-ka-mantr-niyam-dhoop-2-1-3-shubh-ashubh (2)

ऐसा भी माना जाता है की अगरबत्ती भगवान की अतिप्रिय होती हैं. भगवान को भोग लगाने से और उनकी पूजा-आरती करने से हमे विशेष लाभ होता हैं. उसी प्रकार भगवान को अगरबत्ती जलाने से भी विशेष लाभ मिलता हैं. तथा भगवान हम पर प्रसन्न होते हैं.

दोस्तों आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से अगरबत्ती जलाने का मंत्र तथा अगरबत्ती जलाने का नियम बताने वाले हैं. इसके अलावा इस टॉपिक से संबंधित अन्य और भी जानकारी प्रदान करने वाले हैं.

तो आइये हम आपको इस बारे में संपूर्ण जानकारी प्रदान करते हैं.

अगरबत्ती जलाने का मंत्र

कुछ लोगो के मन में सवाल होता है. की जिस प्रकार दीपक जलाने के समय मंत्र का जाप किया जाता हैं. उसी प्रकार अगरबत्ती जलाने के समय भी कुछ मंत्र जाप करना पड़ता होगा.

लेकिन ऐसा नहीं है दोस्तों आप अगरबत्ती ऐसे ही जला सकते हैं. अगरबत्ती जलाते समय किसी भी मंत्र जाप की आवश्यकता नहीं होती हैं. अगरबत्ती हम लोग घर का वातावरण सुंगंधमय बना रहे. और घर में सकारात्मक ऊर्जा प्रवेश हो इसलिए जलाते हैं. इसलिए आप बीना किसी संकोच के तथा बीना किसी मंत्र के अगरबत्ती जला सकते हैं.

घर में शिवजी की पूजा कैसे करें | घर में कौन सा शिवलिंग रखना चाहिए

अगरबत्ती जलाने के नियम

अगरबत्ती जलाने के कुछ नियम है. जो हमने नीचे बताए हैं.

  • ज्योतिष शास्त्र के अनुसार ऐसा माना जाता है. की हमे हमारे घर में अगरबत्ती किसी भी एक ही जगह पर जलानी चाहिए. कुछ लोग अगरबत्ती का स्थान बदलते रहते है. लेकिन ऐसा नहीं करना चाहिए. आप जिस जगह अगरबत्ती करते है. उसी स्थान पर रोजाना अगरबत्ती करे. इससे आपके घर में पॉजिटिव ऊर्जा आएगी. तथा अगरबत्ती का स्थान बार-बार बदलने से आपको जितना लाभ होना चाहिए उतना लाभ नहीं हो पाएगा.
  • अगरबत्ती हमेशा घर की दक्षिण दिशा में जलाना शुभ माना जाता हैं. इससे हमारे घर में नकारात्मक ऊर्जा आने से रुक जाती हैं. तथा शुभ फल की प्राप्ति होती हैं.

गुलाब कितने प्रकार के होते हैं | गुलाब में ज्यादा फूल कैसे लाएं

पूजा में 2 अगरबत्ती जलाना शुभ है या अशुभ

आप पूजा में अपनी इच्छा अनुसार अगरबत्ती जला सकते हैं. अगर आप पूजा में 2 अगरबत्ती जलाते है. तो यह शुभ ही माना जाता हैं.

Agarbatti-jlane-ka-mantr-niyam-dhoop-2-1-3-shubh-ashubh (1)

तुलसी के पास कौन सी पांच चीजें नहीं रखनी चाहिए | तुलसी का पौधा छत पर लगा सकते हैं 

पूजा में 1 या 3 अगरबत्ती जलाना शुभ है या अशुभ

आप पूजा में अपनी इच्छा अनुसार अगरबत्ती जला सकते हैं. आप अपने घर का वातावरण अधिक सुंगंधमय बनाना चाहते हैं. तो अधिक अगरबत्ती जला सकते हैं. और आपको अगरबत्ती के धुए से कुछ एलर्जी है. तो आप 1 भी अगरबत्ती जला सकते है.

विमला तुलसी की पहचान / विमला तुलसी का पौधा कैसा होता है

इसलिए आप पूजा में 1 या 3 कितनी भी अगरबत्ती जला सकते हैं. अगरबती जलाना शुभ ही माना जाता हैं.

धूप जलाने का मंत्र

जिस प्रकार अगरबत्ती जलाने का कोई मंत्र नहीं हैं. उसी प्रकार धुप जलाने का भी कोई मंत्र नहीं हैं. आप धुप ऐसे ही बीना मंत्र के जला सकते हैं. लेकिन फिर भी आप धुप करते समय किसी मंत्र का उच्चारण करना चाहते हैं. तो “ओम गणेशाय: नम:, ओम नम: शिवाय, ओम लक्ष्मी नम:” आदि मंत्र का जाप कर सकते हैं.

Agarbatti-jlane-ka-mantr-niyam-dhoop-2-1-3-shubh-ashubh (3)

शाम को शिवलिंग पर जल चढ़ाना चाहिए या नहीं / शिवलिंग को घर में रखना चाहिए या नहीं

निष्कर्ष

दोस्तों आज हमने आपको इस आर्टिकल के माध्यम से अगरबत्ती जलाने का मंत्र तथा अगरबत्ती जलाने का नियम बताया है. इसके अलावा इस टॉपिक से संबंधित अन्य और भी महत्वपूर्ण जानकारियां प्रदान की हैं. हम उम्मीद करते है की आज का हमारा यह आर्टिकल आपके लिए उपयोगी साबित हुआ होगा.

दोस्तों हम आशा करते है की आपको हमारा यह अगरबत्ती जलाने का मंत्र और नियम | धूप जलाने का मंत्र आर्टिकल अच्छा लगा होगा. धन्यवाद

शिवरात्रि का व्रत कब खोला जाता है / महाशिवरात्रि व्रत नियम

भगवान विष्णु का अंतिम अवतार कौन सा है कल्कि अवतार की पहचान

एकादशी व्रत में दूध पीना चाहिए या नहीं / एकादशी के दिन सिर धोना चाहिए या नहीं

2 thoughts on “अगरबत्ती जलाने का मंत्र और नियम | धूप जलाने का मंत्र”

Leave a Comment