बाबा रामदेव जी का पुराना इतिहास , जाति, परिवार, पुत्र, घोड़े का नाम

बाबा रामदेव जी का पुराना इतिहास , जाति, परिवार, पुत्र, घोड़े का नाम – रुणिचा गांव अर्थात रामदेवरा आज लाखों भक्त बाबा रामदेव जी को मानते हैं. बाबा रामदेव जी जिन्हें रामदेवपीर भी कहा जाता हैं. बाबा रामदेव जी आज राजस्थान के प्रसिद्ध लोकदेवता माने जाते हैं.

रामदेवरा में बाबा रामदेव जी जन्म जयंती पर हर साल मेला लगता हैं. लाखों भक्त इस मेले में देश-विदेश से आते हैं. लाखों भक्त रामदेवरा पैदल भी जाते हैं.

दोस्तों आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से बाबा रामदेव जी का पुराना इतिहास बताने वाले हैं. तथा बाबा रामदेव जी से जुडी सभी बातों पर चर्चा करेगे.

Baba-ramdev-ka-purana-itihas-jati-pariwar-putr-ghoda (2)

तो आइये इस बारे में आपको सम्पूर्ण जानकारी प्रदान करते हैं.

बाबा रामदेव जी का पुराना इतिहास

बाबा रामदेव जी का जन्म 1409 ई में भादवे की बीज के दिन रुणिचा गांव के शासक अजमल जी के घर हुआ था. बाबा रामदेव जी की माता का नाम मैणादे था. और उनके बड़े भाई का नाम विरमदेव जी था.

ऐसा माना जाता है की रामदेव जी के पिता अजमल जी नी:संतान थे. संतान सुख की प्राप्ति के लिए अजमल जी ने द्वारकाधीश जी की भक्ति की थी. उनकी सच्ची भक्ति देखकर द्वारकाधीश जी ने उन्हें वरदान दिया था. की भादवे की बीज के दिन वह स्वयं आपके घर बेटा बनकर अवतरित होगे.

इस तरीके से अजमल जी के वहा द्वारकाधीश जी ने स्वयं भादवे की बीज को बेटे के रूप में जन्म लिया. बाबा रामदेव जी अवतारी पुरुष थे. उनका जन्म हुआ तब से उन्होंने चमत्कारी लीलाए करना शुरू कर दिया था.

कर्ज उतारने का आसान तरीका | किस ग्रह के कारण कर्ज होता है

ऐसा कहा जाता है की उनके जन्म के समय महल में पानी से भरे बरतन दूध से भर गए थे. तथा आकाशवाणी होने लगी. आंगन में कुमकुम के पद चिन्ह बन गए. और घंटिया बजने लगी.

बाबा रामदेव जी जब बड़े हुए तो वह एक सच्चे समाज सुधारक बने. रामदेव जी ने जाति व्यवस्था का विरोध करके सामाजिक समरसता का संदेश दिया था. बाबा रामदेव जी ने जीव मात्र के प्रति दया, गुरु महिमा तथा मानव और पुरुषार्थ के गौरव को महत्व दिया.

समाज में अछूत कहे जाने वाले वर्ग के साथ बैठकर कर भजन आदि करना, धार्मिक आडम्बरों का विरोध करना, हिंदू मुस्लिम एकता पर बल देना जैसे आदि प्रमुख कार्य किए थे.

बाबा रामदेव जी ने अपने जीवन काल के दौरान 24 चमत्कार दिखाए थे. जिन्हें आज भी उनके भजन में याद किया जाता हैं. बाबा रामदेव जी ने महज 33 साल की उम्र में समाधी ले ली थी.

मायावी शक्ति प्राप्त करने का मंत्र / भगवान की शक्ति कैसे मिलती है

आज के समय में बाबा रामदेव जी राजस्थान में प्रसिद्ध लोकदेवता हैं. उनके लाखों भक्त आज भी रामदेवरा उनके दर्शन करने के लिए जाते हैं. हर भादवी बीज रामदेवरा में मेला लगता हैं. जहा लाखों लोग हर साल बाबा रामदेव जी के दर्शन करने के लिए पहुँचते हैं.

यह लगभग तिन महीने तक चलता हैं. जिसमें सभी धर्मो के लोग जुड़ते हैं. लोग अपने मन की मुराद लेकर रामदेवरा जाते हैं. बाबा रामदेव जी की समाधी के दर्शन करने मात्र से भक्तो के दुख दूर हो जाते हैं.

gaaj mata ki kahani in hindi sunaiye

बाबा रामदेव जी की जाति क्या थी

बाबा रामदेव जी तोमर वंशीय राजपूत थे.

बाबा रामदेव जी ने समाधि कब ली थी

बाबा रामदेव जी ने विक्रम संवत 1442 में भादवा सूद एकादशी के दिन समाधी ली थी.

Baba-ramdev-ka-purana-itihas-jati-pariwar-putr-ghoda (3)

जप कामदेव गायत्री मंत्र 108 बार के लाभ | कामदेव गायत्री मंत्र जाप विधि और अर्थ

बाबा रामदेव जी के परिवार

बाबा रामदेव जी के पिता का नाम अजमल जी और माता का नाम मैणादे था. बाबा रामदेव जी के बड़े भाई का नाम विरमदेव जी था.  बाबा रामदेव जी ने सन 1426 में अमरकोट में विवाह किया था. जो वर्तमान में पाकिस्तान में स्थित हैं. उनका विवाह दलपत जी सोढा की पुत्री के साथ हुआ था. बाबा रामदेव जी की पत्नी का नाम नैतलदे था.

चेहरे के लिए मंत्र – सुंदरता के लिए कामदेव मंत्र – सौंदर्य प्राप्ति के मातृका मंत्र और विधि

रामदेव जी के घोड़े का क्या नाम था

बाबा रामदेव जी के घोड़े का नाम लीला था.

Baba-ramdev-ka-purana-itihas-jati-pariwar-putr-ghoda (1)

आकर्षण बीज मंत्र, जाप-विधि, फायदे और लाभ – सम्पूर्ण जानकारी

बाबा रामदेव जी के कितने पुत्र थे

बाबा रामदेव जी के पांच पुत्र थे. उनके नाम गजराजजी, महराजजी, भिंवोजी, बांकोजी और जेतोजी था.

निष्कर्ष

दोस्तों आज हमने आपको इस आर्टिकल के माध्यम से बाबा रामदेव जी का पुराना इतिहास बताया. तथा बाबा रामदेव जी से जुडी काफी सारी बातें आपको बताई. हम उम्मीद करते है की आपको हमारा यह आर्टिकल उपयोगी साबित हुआ होगा.

दोस्तों हम आशा करते है की आपको हमारा यह बाबा रामदेव जी का पुराना इतिहास , जाति, परिवार, पुत्र, घोड़े का नाम आर्टिकल अच्छा लगा होगा. धन्यवाद

वट सावित्री व्रत में क्या खाना चाहिए | वट सावित्री व्रत की विधि / वट सावित्री पूजा में क्या क्या सामान लगता है

गुस्सा कम करने का मंत्र | क्रोध कम करने का उपाय / तरीका

मदार की जड़ से संतान प्राप्ति के उपाय / संतान प्राप्ति के लिए जड़ीबूटी

1 thought on “बाबा रामदेव जी का पुराना इतिहास , जाति, परिवार, पुत्र, घोड़े का नाम”

Leave a Comment