भगवान शिव को प्रकट करने का मंत्र क्या है – सम्पूर्ण जानकारी

भगवान शिव को प्रकट करने का मंत्र क्या है – सम्पूर्ण जानकारी – भगवान शिव मनुष्य के असंभव कार्य को भी संभव कर देते हैं. भगवान शिव की कृपा पाने के लिए कुछ अधिक प्रयास करने की जरूरत नहीं हैं. उनके नाम मात्र से ही भगवान शिव की कृपा को पाया जा सकता हैं. भगवान शिव के कुछ मंत्र और नाम मात्र से ही भगवान शिव प्रकट होकर भक्त की सभी मनोकामना पूर्ण करते हैं.

Bhagwan-shiv-ko-prakat-krne-ka-mantr (3)

दोस्तों आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से भगवान शिव को प्रकट करने का मंत्र बताने वाले हैं. तो आइये हम आपको इस बारे में संपूर्ण जानकारी प्रदान करते हैं.

भगवान शिव को प्रकट करने का मंत्र

भगवान शिव को प्रकट करने के कुछ मंत्र हमने नीचे बताए हैं.

नमामीशमीशान निर्वाणरूपं। विभुं व्यापकं ब्रह्म वेदस्वरूपं॥
निजं निर्गुणं निर्विकल्पं निरीहं। चिदाकाशमाकाशवासं भजेऽहं॥1॥

निराकारमोंकारमूलं तुरीयं। गिरा ग्यान गोतीतमीशं गिरीशं॥
करालं महाकाल कालं कृपालं। गुणागार संसारपारं नतोऽहं॥2॥

तुषाराद्रि संकाश गौरं गभीरं। मनोभूत कोटि प्रभा श्रीशरीरं॥
स्फुरन्मौलि कल्लोलिनी चारु गंगा। लसद्भालबालेन्दु कंठे भुजंगा॥3॥

चलत्कुण्डलं भ्रू सुनेत्रं विशालं। प्रसन्नाननं नीलकंठं दयालं॥
मृगाधीशचर्माम्बरं मुण्डमालं । प्रियं शंकरं सर्वनाथं भजामि॥4॥

प्रचंडं प्रकृष्टं प्रगल्भं परेशं। अखंडं अजं भानुकोटिप्रकाशं॥
त्रयः शूल निर्मूलनं शूलपाणिं। भजेऽहं भवानीपतिं भावगम्यं॥5॥

कलातीत कल्याण कल्पान्तकारी। सदा सज्जनानन्ददाता पुरारी॥
चिदानंद संदोह मोहापहारी। प्रसीद प्रसीद प्रभो मन्मथारी॥6॥

न यावद् उमानाथ पादारविंदं। भजंतीह लोके परे वा नराणां॥
न तावत्सुखं शान्ति सन्तापनाशं। प्रसीद प्रभो सर्वभूताधिवासं॥7॥

न जानामि योगं जपं नैव पूजां। नतोऽहं सदा सर्वदा शंभु तुभ्यं॥
जरा जन्म दुःखोद्य तातप्यमानं॥ प्रभो पाहि आपन्नमामीश शंभो॥8॥

रुद्राष्टकमिदं प्रोक्तं विप्रेण हरतोषये।
ये पठन्ति नरा भक्त्या तेषां शम्भुः प्रसीदति॥9॥

इस मंत्र को रूद्राष्टकम पाठ या मंत्र कहा जाता हैं. महाकवि तुलसीदासजी इस मंत्र तथा पाठ के रचियता माने जाते हैं. ऐसा माना जाता है की इस मंत्र जाप से भगवान शिव स्वयं प्रकट होकर भक्तो की सभी मनोकामना पूर्ण करते हैं. इस मंत्र का जाप आप महाशिवरात्रि के दिन या भगवान शिव के दिन सोमवार को शिव मंदिर जाकर कर सकते है. आप शिवलिंग पर जल का अभिषेक करते हुए इस मंत्र का जाप कर सकते हैं.

भगवान शिव का यह मंत्र बहुत ही प्रभावशाली माना जाता हैं. ऐसा माना जाता है की इस मंत्र जाप से मनुष्य के कष्ट का निवारण होता हैं. तथा मनुष्य के सभी प्रकार के दुख दूर हो जाते हैं.

इसके अलावा और भी भगवान शिव के कुछ मंत्र हमने नीचे बताए हैं. जिसके जाप से मनुष्य का कल्याण होता हैं. और मनुष्य की सभी प्रकार की समस्या दूर होती हैं.

Bhagwan-shiv-ko-prakat-krne-ka-mantr (2)

जनेऊ मंत्र तथा नियम / जनेऊ पहनने का मंत्र / ब्राह्मण जनेऊ मंत्र

पंचाक्षरी शिव मंत्र

ॐ नमः शिवाय।। नमः शिवाय,ॐ नमः शिवाय।।

इस मंत्र का अर्थ होता है की “मैं भगवान शिव को नमन करता हूं”. ऐसा माना जाता है की इस मंत्र जाप से भगवान शिव भक्त पर प्रसन्न होते हैं. तथा भक्त को स्वयं दर्शन देकर उनकी मनोकामना पूर्ण करते हैं.

वार्षिक श्राद्ध कब करना चाहिए – वार्षिक श्राद्ध विधि मंत्रपूजन सामग्री

इस मंत्र का जाप आप सावन के महीने में, सोमवार के दिन तथा शिवरात्रि के दिन या फिर आपकी इच्छा अनुसार रोजाना भी कर सकते हैं. जब भी आप इस मंत्र जाप करे 108 बार रुद्राक्ष की माला से इस मंत्र जाप करना चाहिए. इस मंत्र जाप से मनुष्य दिमाग से शांत तथा आत्मा से शुद्ध बनता हैं.

रूद्र मंत्र

ॐ नमो भगवते रुद्राय।।

भगवान शिव का यह मंत्र भी बहुत ही प्रभावशाली और कारगर माना जाता हैं. ऐसा माना जाता है की जो जातक पूर्ण श्रद्धा और विश्वास के साथ इस मंत्र का जाप करते हैं. उस जातक के सभी कार्य और मनोकामना स्वयं भगवान शिव प्रकट होकर पूर्ण करते हैं.

बौद्ध धर्म में कौन सी जाति आती है / हिन्दू धर्म vs बौद्ध धर्म 

इस मंत्र को आप सोमवार के दिन सुबह के समय 108 माला जाप कर सकते हैं. अगर आपके पास समय है तो आप नियमति रूप से रोजाना भी इस मंत्र का जाप कर सकते हैं.

महा मृतुन्जय मंत्र

ॐ त्रयम्बकं यजामहे सुगंधिम पुष्टि-वर्धनम उर्वारुकमिव बन्धनं मृत्योर्मुक्षीय मामृतात।।

अगर एकाएक अनहोनी होने का डर लगने लगे या फिर आपको किसी व्यक्ति या बुरी आत्मा से डर हैं. तब इस भगवान शिव का यह मंत्र जाप करना चाहिए. इस मंत्र जाप से आपके मन में मौजूद डर दूर होगा. और आपको सभी प्रकार के भय से मुक्ति मिलेगी. इस मंत्र जाप से आपका शारीरिक स्वास्थ्य भी अच्छा बना रहता हैं.

भोग लगाने की विधि / भोग लगाने का मंत्र 

रूद्र गायत्री मंत्र

ॐ तत्पुरुषाय विद्महे महादेवाय धीमहि तन्नो रुद्रः प्रचोदयात।।

जिस प्रकार गायत्री मंत्र सभी मंत्रो में सबसे अधिक प्रभावशाली माना जाता हैं. उसी प्रकार रूद्र गायत्री मंत्र भी बहुत ही शक्तिशाली और प्रभावशाली माना जाता हैं. इस मंत्र जाप से शांति और ज्ञान की प्राप्ति होती हैं.

Bhagwan-shiv-ko-prakat-krne-ka-mantr (1)

पूजा करते समय हाथ जल जाना | घर के मंदिर में आग लगाना शुभ या अशुभ

निष्कर्ष

दोस्तों आज हमने आपको इस आर्टिकल के माध्यम से भगवान शिव को प्रकट करने का मंत्र बताया हैं. हम उम्मीद करते है की आज का हमारा यह आर्टिकल आपके लिए उपयोगी साबित हुआ होगा. अगर उपयोगी साबित हुआ हैं. तो आगे जरुर शेयर करे. ताकि अन्य लोगो तक भी यह महत्वपूर्ण जानकारी पहुंच सके.

दोस्तों हम आशा करते है की आपको हमारा यह भगवान शिव को प्रकट करने का मंत्र क्या है आर्टिकल अच्छा लगा होगा. धन्यवाद

भृगु संहिता के उपाय, मंत्र – भृगु संहिता की जानकारी

सच्चा धर्म कौन सा है / सबसे पवित्र धर्म कौन सा है / असली धर्म कौन सा है

कनकधारा पाठ करने की विधि – श्री कनकधारा स्तोत्र मंत्र तथा चित्र 

11 thoughts on “भगवान शिव को प्रकट करने का मंत्र क्या है – सम्पूर्ण जानकारी”

Leave a Comment