ब्रह्मचर्य के नुकसान क्या है | ब्रह्मचर्य पालन के नियम, अखंड ब्रह्मचर्य क्या है

ब्रह्मचर्य के नुकसान क्या है | ब्रह्मचर्य पालन के नियम, अखंड ब्रह्मचर्य क्या है – ब्रह्म की प्राप्ति के लिए वेदों का अध्ययन करना जिसे ब्रह्मचर्य कहा जाता हैं. ब्रह्मचर्य का अर्थ होता है वीर्य की रक्षा करना. ब्रह्मचर्य पालन करना और वीर्य की रक्षा हमारे लिए शारीरिक शक्ति और मानसिक शक्ति के लिए बहुत फायदेमंद होता हैं.

कुछ लोग ब्रह्मचर्य का पालन तो करते हैं. लेकिन ज्यादा समय तक ब्रह्मचर्य पालन नही कर पाते हैं. और ब्रह्मचर्य तोड़ देते हैं.

brahmchary-ke-nuksan-kya-hai-niyam-akhand-nash (1)

दोस्तों आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से ब्रह्मचर्य के नुकसान बताने वाले हैं. इस आर्टिकल में थोडा विस्तारपूर्वक बताएगे तब आपको समझ में आएगा.

ब्रह्मचर्य के नुकसान क्या है

वैसे तो ब्रह्मचर्य का पालन करना मतलब वीर्य की रक्षा करना होता हैं. ब्रह्मचर्य पालन करने के कोई भी नुकसान नहीं हैं. ब्रह्मचर्य पालन के सिर्फ फायदे ही फायदे आपको देखने मिलेगे. लेकिन दोस्तों नुकसान तब ज्यादा होता हैं. जब आप ब्रह्मचर्य पालन करते हैं. और फिर अचानक से उसे तोड़ देते हैं. अर्थात ब्रह्मचर्य नाश करने से बहुत ज्यादा नुकसान होता हैं.

स्त्री की कुंडली में मंगल का प्रभाव जाने (पुरे बाहरा भावो में)

ब्रह्मचर्य पालन करने के बाद ब्रह्मचर्य नाश करने के नुकसान निम्नलिखित हैं:

  • ब्रह्मचर्य नाश करने से मनुष्य में कई प्रकार की बीमारियां आ सकती हैं.
  • मनुष्य का स्वभाव चिडचिडा हो जाता हैं.
  • मनुष्य की स्मरणशक्ति कमजोर होती हैं.
  • मनुष्य थोडा सा भी मानसिक परिश्रम करता है तो उसका दिमाग थक जाता है और तनाव महसूस करता हैं.
  • उसमें आत्मविश्वास की कमी हो जाती हैं.
  • मनुष्य थोडा सा भी कष्ट और परिश्रम सहन नही कर पाता हैं.
  • उसे काम करने में मन नहीं लगता शरीर में हमेशा आलस्य रहता हैं.
  • मनुष्य की बुद्धि मंद पड जाती है अधिक सोचने की शक्ति नही रहती हैं.
  • संतान पैदा करने की शक्ति समाप्त हो जाती हैं. अगर संतान होती भी है तो दुर्बल होती हैं.
  • असमय वृद्धावस्था मनुष्य को घेर लेती हैं.
  • आत्मविश्वास की कमी के कारण कोई भी नया कार्य हाथ में लेने से पहले भय महसूस होता हैं.

brahmchary-ke-nuksan-kya-hai-niyam-akhand-nash (2)

ऐसी अवस्था में मनुष्य को ब्रह्मचर्य का पालन करना चाहिए. ब्रह्मचर्य का पालन करना तथा वीर्य की रक्षा करना ही जीवन है. और ब्रह्मचर्य का नाश करना तथा वीर्यनाश करना ही मृत्यु हैं.

शादी के बाद मांगलिक दोष उपचार |  मांगलिक लड़के की शादी के उपाय

आइये अब हम आपको ब्रह्मचर्य पालन करने के कुछ नियम बताते है. इससे आपका ब्रह्मचर्य नाश नही होगा. आपका ब्रह्मचर्य पालन टूटेगा नहीं. अगर आप ब्रह्मचर्य पालन अच्छे से करना चाहते है. तो नीचे दिए गए कुछ नियम का पालन करे.

ब्रह्मचर्य पालन के नियम

ब्रह्मचर्य पालन के कुछ नियम निम्नलिखित है:

  • सुबह के समय और शाम के समय खुली हवा में पैदल घूमना चाहिए.
  • अपने भोजन का ध्यान रखे. अत्याधिक उत्तेजक आहार को त्याग कर दे. मिर्च-मसाले वाला भोजन, अचार, खटाई, अधिक मीठा और अधिक गरम चीज़े खाना छोड़ दे.
  • गलत व्यक्ति से साथ घूमना छोड़ दे. गलत फिल्मे और पुस्तक पढना छोड़ दे.
  • ब्रह्मचर्य पालन के लिए रोजाना नियमित रूप से व्यायाम करे.
  • रोज ईश्वर का स्मरण करे. गायत्री मंत्र आदि का जाप करे.
  • महीने में कम से कम 1 दिन उपवास करे.
  • लड़के लड़की से और लड़की लडको से मित्रता नहीं करे. इससे ब्रह्मचर्य टूट सकता हैं.
  • स्त्री पुरुष को एकांतवास में नही रहना चाहिए.
  • ब्रह्मचर्य पालन को नियमति रखने के लिए देशी गाय के दूध सेवन करना बहुत ही फायदेमंद हैं.
  • ब्रह्मचर्य पालन करते समय कुछ दिन स्वप्नदोष की समस्या रहेगी. इस समय गुड, मिर्च, प्याज, लहसुन आदि का त्याग करे.
  • बांसी चीज़े नही खानी चाहिए. हमेशा ताजी और शुद्ध तथा पोषणयुक्त चीज़े खाए.
  • फ्रीज़ की ठंडी चीज़े नही खानी चाहिए. अगर कोई चीज़ फ्रीज़ में रखी है तो उसे बाहर निकाल दे फिर 1 घंटे बाद सही तापमान हो जाने पर खाए.

कुंडली में सप्तम भाव खाली हो तो क्या संकेत देता है | कुंडली में भाव कैसे देखे

तो यह सभी नियम को ध्यान रखे. इन सभी नियम का पालन करने से ब्रह्मचर्य पालन में मदद मिलेगी.

brahmchary-ke-nuksan-kya-hai-niyam-akhand-nash (3)

अखंड ब्रह्मचर्य क्या है?

जो व्यक्ति आजीवन ब्रह्मचर्य का पालन करता हैं. उसे अखंड ब्रह्मचर्य कहते हैं. आजीवन जिसने ब्रह्मचर्य का पालन किया होता है. उस व्यक्ति में सूक्ष्म से सूक्ष्म वस्तु को परखने की बुद्धि और शक्ति होती हैं.

लग्न अनुसार जीवनसाथी कैसे चुने – पूरी 12 राशियों की जानकारी

निष्कर्ष

दोस्तों आज हमने आपको इस आर्टिकल के माध्यम से ब्रह्मचर्य के नुकसान क्या है आपको बताए हैं. साथ में आपका ब्रह्मचर्य टूटे नही. और नियमित बना रहे. उस के लिए कुछ नियम भी आपको बताए. हमारे द्वारा बताए गए नियम के साथ ब्रह्मचर्य का पालन करने से जरुर लाभ होगा.

दोस्तों हम आशा करते है की आपको हमारा यह आर्टिकल ब्रह्मचर्य के नुकसान क्या है | ब्रह्मचर्य पालन के नियम, अखंड ब्रह्मचर्य क्या है अच्छा लगा होगा. धन्यवाद

नाम से जन्म कुंडली बनाना | जन्म कुंडली के लाभ, रहस्य, ग्रहों के घर

मूल शांति पूजन सामग्री लिस्ट इन हिंदी | मूल नक्षत्र कौन कौन से हैं | मूल नक्षत्र कैसे जाने

मोर पंख से लड़का होने के उपाय क्या है जाने औषधि तैयार करनी की पूरी विधि

5 thoughts on “ब्रह्मचर्य के नुकसान क्या है | ब्रह्मचर्य पालन के नियम, अखंड ब्रह्मचर्य क्या है”

Leave a Comment