गुरु खराब होने के लक्षण जाने – पूरे 10

गुरु खराब होने के लक्षण जाने – पूरे 10 – दोस्तों हमारे जीवन में दो गुरु का प्रभाव होता हैं. एक तो वह गुरु जो हमें शिक्षा प्रदान करते है. और दूसरा गुरु हमारी कुंडली में पाया जाता हैं. जिसे ब्रहस्पति के नाम से भी जाना जाता हैं. अगर हमारी कुंडली में गुरु सही है. तब शुभ फलों की प्राप्ति होती हैं. लेकिन हमारी कुंडली का गुरु अगर खराब हो जाए. तो इसका बुरा असर हमारे जीवन पर पड़ता हैं.

Guru-kharab-hone-ke-lakshan (1)

दोस्तों आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से गुरु खराब होने के लक्षण बताने वाले है. गुरु खराब होने से आपके जीवन पर क्या प्रभाव पड़ता हैं. इसकी जानकारी हम आपको प्रदान करने वाले हैं.

तो आइये हम आपको इस बारे में संपूर्ण जानकारी प्रदान करते हैं.

अपराजिता का फूल किस भगवान को चढ़ता है / सफेद फूल की अपराजिता के फायदे

Table of Contents

गुरु खराब होने के लक्षण

गुरु खराब होने के कुछ लक्षण निम्नलिखित है:

गुरु खराब होने का पहला लक्षण शिक्षा में प्रगति नहीं होती

अगर किसी की कुंडली में गुरु खराब है. तो ऐसे जातक अपने जीवन में शिक्षा प्राप्त नहीं कर पाते हैं. अगर उनको शिक्षा में रूचि है. फिर भी गुरु खराब होने से उनकी शिक्षा के प्रति रूचि खत्म हो जाती हैं. और इंसान गलत रास्ता पकड लेता हैं.

कलयुग का कड़वा सच क्या है – सम्पूर्ण जानकारी

गुरु खराब होने के दूसरा लक्षण नास्तिक हो जाना

जिन जातक की कुंडली में गुरु खराब हो जाता हैं. ऐसे जातक नास्तिक हो जाते हैं. उन्हें भगवान के प्रति कोई भी श्रद्धा नहीं होती. ऐसे इंसान भगवान को नहीं मानते है. और नाहीं उनका पूजा पाठ करते हैं.

गुरु खराब होने का तीसरा लक्षण पाचन की समस्या उत्पन्न हो जाती है

जिनका गुरु खराब होता है. उनका पाचनतंत्र बार-बार खराब होता रहता हैं. अगर पाचन एक दो बार बिगड़ता है. तो वह खाने-पीने की वजह से बिगड़ सकता हैं. लेकिन जिनका गुरु खराब होता है. उन्हें हमेशा के लिए पाचन संबंधी समस्या का सामना करना पड़ता हैं.

घर में कौन कौन सी मूर्ति रखनी चाहिए / घर में कितने इंच की मूर्ति रखनी चाहिए

गुरु खराब होने की वजह से पाचनतंत्र कितनी भी दवाई लेने के बाद भी ठीक नहीं होता हैं. ऐसे में आपको आपकी कुंडली किसी ज्योतिष को दिखानी चाहिए. ज्योतिष ही आपकी समस्या का निवारण ला सकते है.

गुरु खराब होने का चौथा लक्षण अचानक से जातक के दुश्मन बढ़ जाना

अगर किसी की कुंडली में गुरु खराब हो जाता है. तो उसके दुश्मनों की संख्या में बढ़ोतरी होती हैं. अगर आपके दुश्मन समय के साथ बढ़ रहे है. तो समझ लीजिए की आपका गुरु खराब हैं. ऐसे में आपको किसी अच्छे ज्योतिष की सलाह लेनी चाहिए.

गुरु खराब होने का पांचवा लक्षण धन में कमी आना

आप आर्थिक तंगी या धन की कमी महसूस कर रहे है. तो समझ लीजिए आपकी कुंडली में आपका गुरु खराब चल रहा हैं. आप कितनी भी मेहनत करेगे. फिर भी धन की तंगी आपके लिए रहने वाली हैं. ऐसे में आपको ज्योतिष उपाय का सहारा लेकर ही इस समस्या का निवारण लाना चाहिए.

शनिवार को सूर्य भगवान को जल देना चाहिए या नहीं / सूर्य भगवान को किस दिन जल नहीं चढ़ाना चाहिए

गुरु खराब होने का छठा लक्षण जातक के मानसम्मान में कमी आना

कोई भी इंसान ऐसा नहीं होता है. जिन्हें अपना मान-सम्मान पसंद न हो. हर कोई व्यक्ति अपना मान-सम्मान चाहता हैं. लेकिन जिनकी कुंडली में गुरु खराब होगा. वह जातक कितना भी अच्छा कार्य कर ले. उसे जीवन में कभी मान-सम्मान नहीं मिलता.

Guru-kharab-hone-ke-lakshan (3)

गुरु खराब होने पर व्यक्ति के जीवन में मान-सम्मान की कमी आती हैं. ऐसी स्थिति में किसी अच्छे से ज्योतिष को कुंडली दिखाकर गुरु ग्रह को शांत करने की आवश्यकता रहती हैं.

गुरु खराब होने का सातवां लक्षण पेट संबंधित रोग उत्पन्न होते है

अगर आपका गुरु खराब होगा तो आपको पेट संबंधी समस्या का सामना करना पड सकता हैं. जैसे की कब्ज, एसिडिटी तथा पेट का दर्द इन सभी समस्या का सामना आपको करना पड सकता है. आप कितनी भी दवाई ले. उसके बाद भी पेट संबंधी परेशानी ठीक नहीं होती हैं. ऐसी स्थिति में ज्योतिष की सलाह जरुर ले.

सूर्य को अर्घ्य देने का मंत्रतरीका, फायदे, समय / सूर्य को अर्घ्य क्यों देते हैं

गुरु खराब होने का आठवां लक्षण उच्च पद पाने में समस्या

गुरु खराब होने के कारण आप कितनी भी मेहनत कर ले उच्च पद की प्राप्ति कभी नहीं हो सकती हैं. ऐसे जातक बस छोटी-मोटी नौकरी करके ही अपना जीवन चलाते हैं. उनमें उच्च पद पाने की क्षमता होने के बावजूद भी गुरु खराब होने के कारण उच्च पद की प्राप्ति नही होती हैं.

गुरु खराब होने का नौवा लक्षण पिता के साथ विवाद

गुरु खराब होने के कारण जातक और उसके पिता के बिच हमेशा मतभेद रहता हैं. पिता-पुत्र दोनों में हमेशा विवाद चालू रहता हैं. अगर किसी जातक का पिता से विवाद चल रहा है. तो समझ लीजिए की यह सब गुरु खराब होने की वजह से हो रहा हैं.

ऐसे में इस समस्या का जल्दी निवारण लाना चाहिए. नहीं तो विवाद काफी अधिक बढ़ सकता हैं.

गुरु खराब होने का दसवां लक्षण जातक मांस और शराब का सेवन करने लगता है

अगर आप अधिक मात्रा में मांस और शराब का सेवन कर रहे है. तो समझ लीजिए यह सब गुरु खराब होने के कारण हो रहा हैं. गुरु खराब होने के कारण आपको मांस और शराब का सेवन करना ही अच्छा लगता हैं. जो की काफी बुरी आदत हैं.

गरुड़ पुराण कब पढ़ना चाहिए / गरुड़ पुराण के टोटके, नियम, और फायदे

यह आदत आगे जाकर आप के लिए स्वास्थ्य संबंधी अन्य परेशानियां खड़ी कर सकती हैं. ऐसी स्थिति में इसके उपाय के बारे में आपको जल्दी सोचना चाहिए.

Guru-kharab-hone-ke-lakshan (2)

निष्कर्ष

दोस्तों आज हमने आपको इस आर्टिकल के माध्यम से गुरु खराब होने के लक्षण बताए हैं. अगर आपकी कुंडली में गुरु खराब चल रहा है. तो जल्दी ही किसी अच्छे से ज्योतिष को अपनी कुंडली दिखाए. और गुरु को शांत करने के उपाय करे.

दोस्तों हम आशा करते है की आपको हमारा यह गुरु खराब होने के लक्षण आर्टिकल अच्छा लगा होगा. धन्यवाद

नाभि ठीक करने का मंत्र तथा शाबर मंत्र धरन ठीक करने का मंत्र

नमक से नजर कैसे उतारे / सिंदूर, काली मिर्च, फिटकरी से नजर कैसे उतारे

पुत्र प्राप्ति की दवा / लड़का कैसे पैदा होता है / केवल पुत्र प्राप्ति के लिए क्या करे

2 thoughts on “गुरु खराब होने के लक्षण जाने – पूरे 10”

Leave a Comment