हनुमान जी के कौन से पैर का सिंदूर लगाना चाहिए – सिंदूर चढ़ाने का मंत्र

हनुमान जी के कौन से पैर का सिंदूर लगाना चाहिए – सिंदूर चढ़ाने का मंत्र – इस संसार में सभी लोग विभिन्न देवी-देवताओं को मानते हैं. जिनमें से हनुमान जी महाराज मुख्य देव माने जाते हैं. इस संसार में हनुमान जी को जाग्रत देवता के रूप में माना जाता हैं. अर्थात हनुमान जी हमारे आसपास पृथ्वीलोक पर मौजूद हैं.

Hanuman-ji-ke-kaun-se-pair-ka-sindur-lgana-chahie-mantra (1)

सिंदूर हनुमान जी का अतिप्रिय माना जाता हैं. ऐसा माना जाता है की हनुमान जी की श्रद्धा पूर्वक पूजा-अर्चना करने से तथा सिंदूर आदि चढाने से हनुमान जी जल्दी प्रसन्न होते हैं. और अपने भक्तो की मनोकामना पूर्ण करते हैं.

दोस्तों आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से बताने वाले है की हनुमान जी के कौन से पैर का सिंदूर लगाना चाहिए तथा हनुमान जी को सिंदूर कैसे चढ़ाएं. इसके अलावा इस टॉपिक से संबंधित अन्य और भी जानकारी प्रदान करने वाले हैं. यह सभी महत्वपूर्ण जानकारी पाने के लिए हमारा यह आर्टिकल अंत तक जरुर पढ़े.

तो आइये हम आपको इस बारे में संपूर्ण जानकारी प्रदान करते हैं.

हनुमान जी के कौन से पैर का सिंदूर लगाना चाहिए

हनुमान जी के भक्तो को हनुमान जी के कृपा और आशीर्वाद पाने के लिए हनुमान जी के दाहिनें पैर का सिंदूर लगाना चाहिए. इससे हनुमान जी प्रसन्न होते हैं. ऐसा भी माना जाता हैं. की चमेली के तेल में सिंदूर को मिलाकर हनुमान जी के दाहिनें पैर पर लगाकर उस सिंदूर का माथे पर तिलक लगाने से हमारे सभी बिगड़े हुए काम होने लगते हैं.

मेहंदीपुर बालाजी के नियम मेहंदीपुर बालाजी अर्जी लगाने का तरीका

हनुमान जी को सिंदूर कैसे चढ़ाएं

हनुमान जी को चमेली के तेल में सिंदूर मिलाकर चढ़ा सकते हैं. आप चाहे तो चमेली के तेल में सिंदूर मिलाकर घोलकर हनुमान जी के पुरे शरीर पर मल सकते हैं. इसको प्रक्रिया को हनुमान जी को चोला चढ़ाना भी कहा जाता हैं.

अंकोरवाट मंदिर का रहस्य और रोचक तथ्य क्या है / अंकोरवाट का मंदिर किस देश में है

हनुमान जी को सिंदूर चढ़ाने का मंत्र

अगर आप हनुमान जी को सिंदूर से चोला चढाने जा रहे है. या फिर हनुमान जी को सिंदूर चढाने जा रहे है. तो सबसे पहले हनुमान जी की प्रतिमा को सबसे पहले शुद्ध पानी से स्नान करवाए. इसके पश्चात चमेली का तेल और सिंदूर हनुमान जी को चढ़ाए. हनुमान जी को सिंदूर चढाते समय नीचे दिए गए मंत्र जा जाप करे.

मोहिनी जड़ी बूटी की जानकारी, प्रयोग और वशीकरण

कुलदेवी की खोज कैसे करे | कुलदेवी की स्थापना और प्रसन्न कैसे करे

हनुमान जी को सिंदूर चढ़ाने का मंत्र

सिन्दूरं रक्तवर्णं च सिन्दूरतिलकप्रिये
भक्तयां दत्तं मया देव सिन्दूरं प्रतिगृह्यताम

Hanuman-ji-ke-kaun-se-pair-ka-sindur-lgana-chahie-mantra (2)

हनुमान जी को सिंदूर क्यों चढ़ाया जाता है

हनुमान जी को सिंदूर क्यों लगाया जाता हैं. इसके पीछे त्रेता युग की एक कहानी हैं.

एक समय की बात है. जब हनुमान जी ने माता सीता को माथे पर सिंदूर लगाते हुए देखा. तब हनुमान जी माता सीता से सिंदूर लगाने का कारण पूछा तो सीता माता ने जवाब दिया की “पत्नी के माथे पर सिंदूर लगाने से पति की आयु लंबी होती हैं”.

यह सुनकर हनुमान जी ने सोचा की माता सीता के इतने से सिंदूर लगाने से भगवान राम की आयु लंबी होती हैं. तो स्वयं पुरे शरीर पर लगाने से बहुत लंबी हो जाएगी. इस प्रकार भगवान राम की आयु लंबी करने के लिए अपने पुरे शरीर पर सिंदूर लगा लिया.

तब से लेकर आज दिन तक हनुमान जी के भक्त हनुमान जी को सिंदूर का चोला चढाते हैं. इसलिए हनुमान जी को सिंदूर चढ़ाया जाता हैं.

gopal sahastranaam benefits in hindi / गोपाल सहस्त्रनाम स्त्रोत्र का पाठ करने की विधि

हनुमान जी को सिंदूर चढ़ाने के फायदे

हनुमान जी को सिंदूर चढाने के कुछ फायदे हमने नीचे बताए हैं.

  • हनुमान जी को सिंदूर चढाने से भेट-प्रेत आदि से छुटकारा मिलता हैं.
  • हनुमान जी को सिंदूर चढाने से भक्तो की हर एक मनोकामना पूर्ण होती हैं.
  • हनुमान जी को सिंदूर चढाने से हमारी एकाग्रता शक्ति बढती हैं.
  • हनुमान जी को सिंदूर चढाने से हमारी दृष्टि में वृद्धि होती हैं.
  • हनुमान जी को शनिवार के दिन सिंदूर चढाने से मनुष्य की सभी इच्छा पूरी होती हैं.
  • हनुमान जी को सिंदूर चढाने से सौभाग्य की प्राप्ति होती हैं.
  • हनुमान जी को सिंदूर चढाने से तथा पूजा आदि करने से मंगली दोष भी दूर हो जाता है.

Hanuman-ji-ke-kaun-se-pair-ka-sindur-lgana-chahie-mantra (3)

सुन्दरकाण्ड के टोटके सरल और छोटे | सुन्दरकाण्ड का पाठ करने की विधि और नियम

निष्कर्ष

दोस्तों आज हमने आपको इस आर्टिकल के माध्यम से बताया है की हनुमान जी के कौन से पैर का सिंदूर लगाना चाहिए तथा हनुमान जी को सिंदूर कैसे चढ़ाएं. इसके अलावा इस टॉपिक से संबंधित अन्य और भी जानकारी प्रदान की हैं. हम उम्मीद करते है की आज का हमारा यह आर्टिकल आपके लिए उपयोगी साबित हुआ होगा.

दोस्तों हम आशा करते है की आपको हमारा यह हनुमान जी के कौन से पैर का सिंदूर लगाना चाहिए / हनुमान जी को सिंदूर चढ़ाने का मंत्र आर्टिकल अच्छा लगा होगा. धन्यवाद

गोवल्लभाय स्वाहा मंत्र के फायदे | गोवल्लभाय स्वाहा का अर्थ क्या है | गोवल्लभाय स्वाहा मंत्र का जाप कैसे करें

हनुमान बाहुक के लाभ / हनुमान बाहुक का पाठ कैसे करे

सुंदरकांड का पाठ सुबह करें या शाम को / सुंदरकांड का लगातार 21 दिन पाठ करने का नियम 

1 thought on “हनुमान जी के कौन से पैर का सिंदूर लगाना चाहिए – सिंदूर चढ़ाने का मंत्र”

Leave a Comment