लग्न अनुसार जीवनसाथी कैसे चुने – पूरी 12 राशियों की जानकारी

लग्न अनुसार जीवनसाथी कैसे चुने- हर लड़की या लड़के के मन में शादी से पहले काफी सारी कल्पनाएं होती हैं. जैसे की उसको मिलने वाला जीवनसाथी सुंदर और पढ़ा लिखा हो. जीवनसाथी आकर्षक तथा उत्तम गुण वाला हो.  लग्न के लिए किसी भी लड़की या लड़के के लिए सबसे महत्वपूर्ण सवाल खुद से यही होता है की जीवनसाथी कैसा मिलेगा.

जीवनसाथी मिलने के पहले उसके बारे में कुछ भी कह पाना वैसे तो मुश्किल हैं. लेकिन ज्योतिष शास्त्र के अनुसार कुंडली का सप्तम भाग हमें बता सकता हैं. की हमें मिलने वाला जीवनसाथी कैसा होगा.

lgna-anusar-jivansathi-kaise-chune (1)

दोस्तों आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से लग्न अनुसार जीवनसाथी को कैसे चुने इस बारे में आपको बताने वाले हैं. जो की हम राशि के आधार पर जान सकते हैं. आप अपने राशि की आधार पर जान सकते है की आपका जीवनसाथी कैसा होगा.

लग्न अनुसार जीवनसाथी कैसे चुने

आपकी राशि के आधार पर आप जान सकते है. की आपको कैसा जीवनसाथी मिलने वाला है. इससे आपको अपने भावी जीवनसाथी की झलक पहले से मिल सकती हैं.

वास्तु के अनुसार शौचालय का गड्ढा, बोरिंग, पानी की टंकी कहा बनानी चाहिए

मेष राशि लग्न का जीवनसाथी

मेष लग्न के कुंडली में सप्तम भाग का स्वामी शुक्र और राशि तुला होती हैं. शुक्र को विवाह का कारक माना जाता हैं. इसलिए सुशिक्षित जीवनसाथी मिल सकता हैं. शुक्र कला प्रेमी भी होता हैं. तो घर की सजावट में भी ध्यान रखेगा.

मूल शांति पूजन सामग्री लिस्ट इन हिंदी | मूल नक्षत्र कौन कौन से हैं | मूल नक्षत्र कैसे जाने

वृष राशि लग्न का जीवनसाथी

इस राशि का सप्तमेश मंगल और राशि वृश्चिक होती हैं. ऐसी कन्या को वर कम पढ़ा लिखा और गुस्से वाले स्वभाव का मिलता हैं. इस जातक का जीवन काफी संघर्ष वाला होता हैं. उन्हें काफी परेशानी का सामना करना पड सकता हैं.

lgna-anusar-jivansathi-kaise-chune (2)

मिथुन राशि लग्न का जीवनसाथी

इस जातक की कुंडली में सप्तम भाग में गुरु की राशि धनु होती हैं. ऐसे जातक को जीवनसाथी सुंदर और गौरवशाली मिलता हैं. इस लग्न की कन्या बहु पुत्रवान होती हैं.

नाम से जन्म कुंडली बनाना | जन्म कुंडली के लाभ, रहस्य, ग्रहों के घर

कर्क राशि लग्न का जीवनसाथी

इस लग्न का स्वामी चंद्रमा तथा सप्तमेश शनि होता हैं. ऐसी कन्या के पति अध्ययन की बजायशौक़ीन अधिक होते हैं. शायद कन्या के पति की उम्र कन्या से काफी ज्यादा भी हो सकती हैं. उसका स्वभाव क्रोध वाला होता हैं. अपने सम्मान की रक्षा के लिए वह कुछ भी त्याग कर सकता हैं. लेकिन अपने गर्व चोट सहन नही करता हैं.

सिंह राशि लग्न का जीवनसाथी

इस लग्न की कन्या के सप्तम भाग में शनि की राशि कुंभ होती हैं. इस लग्न की कन्या का पति लक्ष्य की प्रप्ति के लिए कठिन से कठिन मेहनत करने वाला होता हैं. वह बड़ों की सेवा करने वाला, दूसरों की भलाई करने वाला, गुणवान और श्रेष्ठ संतान का पिता होता हैं. ऐसे व्यक्ति अपना निर्माण खुद करते हैं.

सिद्ध कुंजिका मंत्र 108 बार करने से क्या होता है | सिद्ध कुंजिका स्तोत्र उत्कीलन मंत्र

तुला राशि लग्न का जीवनसाथी

इनके सप्तमेश मंगल और राशि मेष होती हैं. ऐसे लोगो को जीवनसाथी बात बात पर कलह करने वाला, जिद्दी, क्रोधी स्वभाव तथा हमेशा अशांत वातावरण बनाए रखने वाला होता हैं. ऐसे व्यक्ति हमेशा खुद के बारे में सोचते हैं. ऐसे लोगो के साथ वैवाहिक जीवन सुखमय नही रहता.

वृश्चिक राशि लग्न का जीवनसाथी

इनका सप्तमेश शुक्र और राशि वृष होती हैं. ऐसे व्यक्ति शांत स्वभाव के तथा कर्मयोगी और भावुक किस्म के व्यक्ति होते हैं. ऐसे लोग वैवाहिक जीवन मधुर बनाए रखने का प्रयास करते हैं.

lgna-anusar-jivansathi-kaise-chune (3)

धनु राशि लग्न का जीवनसाथी

धनु लग्न की कन्या के सप्तम भाग में बुध और राशि मिथुन होती हैं. ऐसी कन्या का पति शालीन और उच्च विचार वाला होता हैं. तथा भाग्यशाली होता हैं. इनको हमेशा साफ सफाई पसंद होती हैं.

मकर राशि लग्न का जीवनसाथी

इसके सप्तम भाग में चंद्रमा और राशि कर्क होती हैं. ऐसी कन्या के पति स्वभाव से दोहरे स्वभाव वाला होता हैं. कभी जिद्दी तो कभी भावुक स्वभाव वाला होता हैं.

पीर बाबा को बुलाने का मंत्र, साधना विधि | पीर शब्द का अर्थ है | पीर बाबा कौन थे

कुंभ राशि लग्न का जीवनसाथी

इस लग्न की कन्या के पति अपनी बात पर अडग रहने वाला होता हैं. क्रोधी स्वभाव के तथा दुसरो की बाते नही मानने वाले होते हैं. इनको झूठ से चिढ होती हैं.

मिन राशि लग्न का जीवनसाथी

इसका सप्तमेश बुध और राशि कन्या होती हैं. ऐसी कन्या का वर हंसमुख स्वभाव का, सुंदर तथा मधुर वाणी बोलने वाला होता हैं.उनके मन में काफी इच्छा होती है लेकिन अपने पर इच्छा हावी नही होना देता.

हनुमान जी का शत्रु नाशक मंत्र करे सब संकट को दूर

निष्कर्ष

दोस्तों आज हमने आपको इस आर्टिकल के माध्यम से लग्न अनुसार जीवनसाथी का चुनाव कैसे चुने इस बारे में राशि के आधार पर आप जीवनसाथी का चुनाव कर सकते है. या फिर अपने जीवनसाथी की झलक पहले से राशी के आधार पर देख सकते हैं.

दोस्तों हम आशा करते है की आपको हमारा यह आर्टिकल लग्न अनुसार जीवनसाथी कैसे चुने अच्छा लगा होगा. धन्यवाद

क्या श्री कृष्ण अहीर थे | अहीर की परिभाषा | अहीर किस जाति में आते हैं

Shree ram raksha stotra in hindi mein lyrics PDF Download free

मोर पंख से लड़का होने के उपाय क्या है जाने औषधि तैयार करनी की पूरी विधि

2 thoughts on “लग्न अनुसार जीवनसाथी कैसे चुने – पूरी 12 राशियों की जानकारी”

Leave a Comment