मेहंदीपुर बालाजी के नियम / मेहंदीपुर बालाजी अर्जी लगाने का तरीका

मेहंदीपुर बालाजी के नियम / मेहंदीपुर बालाजी अर्जी लगाने का तरीका – भारत विभिन्न सभ्यताओं वाला देश हैं. जहां विभिन्न धर्म और संस्कृति के लोग रहते हैं. इसी कारण भारत देश दुनिया में भी मशहूर माना जाता हैं. भारत में जितने धार्मिक स्थान है शायद ही किसी अन्य देश में इतने धार्मिक स्थान होगे.

आज हम भारत के ऐसे ही एक मशहूर मंदिर के बारे में बात करने वाले हैं. जिसके प्रति यहा के लोग काफी आस्था रखते हैं. आज हम मेहंदीपुर बालाजी के बारे में बात करेगे. अगर आप भी मेहंदीपुर बालाजी के बारे में संपूर्ण जानकारी पाना चाहते है. तो हमारा यह आर्टिकल अंत तक पढ़िए.

Mahendipur-Balaji-ke-niyam-arji-lgane-ka-tarika-jankari (3)

दोस्तों आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से मेहंदीपुर बालाजी के नियम के बारे में बताने वाले हैं. इसके अलावा इस मंदिर की संपूर्ण जानकारी प्रदान करने वाले हैं.

तो आइये हम आपको इस बारे में विस्तारपूर्वक जानकारी प्रदान करते हैं.

अपराजिता का फूल किस भगवान को चढ़ता है / सफेद फूल की अपराजिता के फायदे

मेहंदीपुर बालाजी के नियम / मेहंदीपुर बालाजी अर्जी लगाने का तरीका

जो व्यक्ति मेहंदीपुर बालाजी जाता है. उन्हें नीचे दिए गए नियमों का पालन करना जरूरी हैं. तथा अर्जी लगाने का तरीका भी हमने नीचे बताया हैं.

  • मेहंदीपुर बालाजी मंदिर जाने के एक सप्ताह पहले ही मांस, शराब, लहसुन, प्याज, अंडा आदि का सेवन करना बंध कर देना चाहिए.
  • मेहंदीपुर बालाजी मंदिर पहुंचने के बाद वहा पर आप ठहरने की व्यवस्था करे. उसके बाद स्नान आदि करके साफ वस्त्र धारण करके ही बालाजी मंदिर में प्रवेश करना चाहिए.
  • बालाजी के मंदिर पहुंचकर हाजरी लगाने के लिए दरखास्त करनी चाहिए.
  • किसी भी चीज़ या वस्तु को अपने हाथो से न चढ़ाए.
  • इसके बाद आप रोग-मुक्ति की अर्जी लगा सकते हैं. साथ में अर्जी मंजूरी की भी दरखास्त लगानी चाहिए.
  • मेहंदीपुर बालाजी मंदिर में सुबह-शाम दोनों समय आरती होती हैं. उस समय आरती के छीटे लेने चाहिए.
  • जिन रोगियों की या भक्तो की पेशी आ रही है. उनके लिए पर्याप्त जगह पहले से छोड़ देनी चाहिए. ताकि वह आसानी से बाबा से अरदास कर सके.
  • मंदिर से जो भी प्रसाद मिलता हैं. वह खुद ही खाना चाहिए. प्रसाद नाहीं किसी को देना चाहिए. और नाहीं किसी से लेना चाहिए.
  • अगर आप भंडारा या हवन करवाना चाहते है. तो मंदिर के कार्यालय में संपर्क कर सकते हैं.
  • जब तक मेहंदीपुर बालाजी मंदिर में आप रुकते है. स्त्री और पुरुष को पूर्ण ब्रह्मचर्य का पालन करना चाहिए.
  • अपने ठहरने के स्थान पर दरी बिछाने के बाद ही सोना या बैठना चाहिए.
  • मेहंदीपुर बालाजी मंदिर में पैर फैलाकर नहीं बैठना चाहिए.
  • जो स्त्री रजस्वला है. उन्हें सात दिन तक मंदिर परिसर में नहीं जाना चाहिए. तथा वहा की भभूत-जल का भी प्रयोग नहीं करना चाहिए.
  • मेहंदीपुर बालाजी मंदिर से आप घर वापसी के समय जल-भभूत आदि ला सकते हैं. लेकिन प्रसाद घर लाने की मनाई हैं.
  • बालाजी मंदिर से घर लौटते समय दरबार में यह दरखास्त लगानी चाहिए की “हम घर जा रहे है हमारी रक्षा करना”.
  • घर वापसी की दरखास्त के बाद लड्डू नहीं खाना चाहिए.
  • आपको जो कार्य करना हो जैसे की नहाना, खाना-पीना, शौच आदि करने के बाद अंत में ही घर वापसी की दरखास्त लगानी चाहिए. घर वापसी की दरखास्त लगाने के बाद कोई भी कार्य नहीं करना चाहिए.
  • मंदिर से घर लौटते समय अपने थेला, पर्स, बैग आदि अच्छे से चेक कर लेना चाहिए. वहा से खाने-पीने की कोई भी वस्तु घर पर नहीं लानी चाहिए.
  • घर वापसी की दरखास्त लगाने के बाद एक पल भी मंदिर या मंदिर परिसर में नहीं रुकना चाहिए.

Mahendipur-Balaji-ke-niyam-arji-lgane-ka-tarika-jankari (2)

अंकोरवाट मंदिर का रहस्य और रोचक तथ्य क्या है / अंकोरवाट का मंदिर किस देश में है

मेहंदीपुर बालाजी मंदिर की जानकारी

मेहंदीपुर बालाजी मंदिर राजस्थान के दौसा जिले में स्थित हैं. यह हनुमानजी का मंदिर हैं. यहा भारी मात्रा में दर्शनार्थी बालाजी के दर्शन करने के लिए आते हैं. भक्तो के लिए यह मंदिर बहुत ही कल्याणकारी माना जाता हैं.

गुरु गोरखनाथ की मृत्यु कैसे हुई / गुरु गोरखनाथ का जन्म कब और कहा हुआ

जहा भक्तो की सभी मनोकामना बालाजी पूर्ण करते हैं. जिस पर भी भुत-प्रेत का शाया होता है. ऐसी बुरी शक्तियों से यहा छुटकारा मिलता हैं.

जयपुर से मेहंदीपुर बालाजी की दूरी कितनी है

जयपुर से मेहंदीपुर बालाजी मंदिर की दुरी 12 किलोमीटर के करीब हैं.

gopal sahastranaam benefits in hindi / गोपाल सहस्त्रनाम स्त्रोत्र का पाठ करने की विधि

मेहंदीपुर बालाजी कौन से जिले में है

मेहंदीपुर बालाजी मंदिर राजस्थान के दौला जिले में स्थित हैं.

Mahendipur-Balaji-ke-niyam-arji-lgane-ka-tarika-jankari (1)

पूजा कब नहीं करनी चाहिए | सुबह कितने बजे उठकर पूजा करनी चाहिए

निष्कर्ष

दोस्तों आज हमने आपको इस आर्टिकल के माध्यम से मेहंदीपुर बालाजी के नियम और अर्जी लगाने का तरीका बताया हैं. इसके अलावा मेहंदीपुर बालाजी मंदिर के बारे में कुछ जानकारी भी प्रदान की हैं. हम उम्मीद करते है की आज का हमारा यह आर्टिकल आपके लिए उपयोगी साबित हुआ होगा.

दोस्तों हम आशा करते है की आपको हमारा यह मेहंदीपुर बालाजी के नियम / मेहंदीपुर बालाजी अर्जी लगाने का तरीका आर्टिकल अच्छा लगा होगा. धन्यवाद

कुलदेवी की खोज कैसे करे | कुलदेवी की स्थापना और प्रसन्न कैसे करे

Hanuman chalisa hindi me likha hua / likhit main PDF download

Shree ram raksha stotra in hindi mein lyrics PDF Download free

1 thought on “मेहंदीपुर बालाजी के नियम / मेहंदीपुर बालाजी अर्जी लगाने का तरीका”

Leave a Comment