Om shirdi sai ram baba miracle mantra for health and job

Om shirdi sai ram baba miracle mantra for health and job – दोस्तों गुरुवार का दिन साईं बाबा का दिन माना जाता हैं. साईं बाबा के लाखो भक्त गुरुवार के दिन इनकी पूजा अर्चना करते हैं. और साईं बाबा के नाम से व्रत करते हैं. लेकिन क्या आप जानते है साईं बाबा के कुछ मंत्र है. जिसे साईं बाबा धाम में जाकर विश्वास और श्रद्धा पूर्वक जाप किया जाए तो सभी मनोकामना पूर्ण होती हैं. गुरुवार के दिन इस मंत्रो का उच्चारण करने से साईं बाबा आपका जीवन खुशियों से भर देंगे.

दोस्तों आइये चले जानते है इस मंत्र के बारे में.

om-shirdi-sai-ram-baba-miracle-mantra-for-health-and-job (1)

Om shirdi sai ram baba miracle mantra for health and job

नौकरी तथा एक अच्छी स्वास्थ्य के लिए हमारे द्वारा बताए गए मंत्रो का विधि पूर्वक उच्चारण करे. तथा यह भी ध्यान रखे की मंत्रो के उच्चारण के साथ ही आपके मन में साईं बाबा के प्रति सच्ची भक्ति भी होनी चाहिए.

निचे दिए गए मंत्रो का विश्वास और श्रद्धा पूर्वक साईं बाबा मंदिर या अपने घर के पूजा स्थल पर बैठकर 551 बार इस मंत्रो का जाप करे. मंत्र जाप के दौरान घी का दीपक जरुर जलाए.

Bhagwan Brihaspati dev ji ki aarti lyrics in hindi PDF Download

साईं बाबा मंत्र:

ॐ साईं राम

ॐ साईं गुरुवाय नम:

ॐ साईं देवाय नम:

ॐ शिर्डी देवाय नम:

ॐ समाधीदेवाय नम:

ॐ सर्वदेवाय रूपाय नम:

ॐ अजर अमराय नम:

ॐ मालिकाय नम:

ॐ सर्वज्ञा सर्व देवता स्वरूप अवतारा.

ॐ शिर्डी वासाय विज्ञहे सच्चिदानंदाय धीमहि तन्नो साईं प्रचोदयात

सबका मालिक एक हैं

जय जय साईं राम

दोस्तों इन मंत्रो के उच्चारण से आपकी सभी समस्या का समाधान होंगा और सभी परेशानिया दूर होगी.

साईं बाबा कौन थे

साईं बाबा भारत के महान संत में से एक माने जाते हैं. साईं बाबा के विश्वभर में लाखो भक्त हैं जो उन्हें मानते हैं. साईं बाबा में अद्भुत शक्तिया थी वह एक भगवान के रूप माने जाते हैं. आज हम आपको साईं बाबा के इतिहास के बारे बताते हैं.

Hanuman chalisa hindi me likha hua / likhit main PDF download

साईं बाबा का इतिहास क्या है

शिर्डी के साईं बाबा से आज के समय में लाखो भक्तो की आस्था जुडी हुई हैं. साईं बाबा को ईश्वर का स्वरूप माना जाता हैं. इन्हें हिन्दू और मुस्लिम दोनों धर्म के भक्त समान भाव से पूजते हैं. साईं बाबा को उनके अनुयायी योगी, फ़क़ीर, सतगुरु एवं संत की उपाधि से मानते थे. वह भारत के एक सच्चे संत माने जाते हैं. जिनकी पूजा वैश्विक स्तर पर की जाती हैं.

साईं बाबा के जन्म और धर्म को लेकर भिन्न मान्यताए है. कोई उन्हें हिंदू तथा कोई उन्हें मुस्लिम मानता हैं. लेकिन साईं बाबा ने अपने पुरे जीवन सबको ‘सबका मालिक एक हैं’ का ही संदेश दिया. साईं बाबा को हिन्दू और मुस्लिम दोनों ही धर्म के लोग समान भावना से मानते हैं.

om-shirdi-sai-ram-baba-miracle-mantra-for-health-and-job (2)

साईं बाबा के जन्म को लेकर कई सारे मत भेद हैं. कुछ लोगो का मान ना है की साईं बाबा का जन्म 28 सितंबर सन 1835 में महाराष्ट्र के पाथरी गांव में हुआ था. और कुछ दस्तावेज मिले है उस अनुसार साईं बाबा 1854 में पहली बार शिर्डी में दिखाई दिए थे.उस समय उनकी उम्र लगभग 16 साल के करीब थी.

साईं सत्चरित्र किताब के अनुसार उनका जन्म महाराष्ट्र के पाथरी में 27 सितंबर 1830 में हुआ था. और वह 23 से 25 साल की आयु में शिर्डी गए थे. इसके बाद उनके चमत्कार और उपदेशो से लोगो के मन में उन्होंने जगा बना ली. धीरे धीरे उनकी ख्याति बढती गई और उनके अनुयायियों की संख्या भी बढती चली गई.

साईं बाबा के बारे में कुछ लोगो का मान ना है की उनके पास ईश्वरीय शक्ति थी क्योंकि जब भी वे ध्यान करने बैठते थे तब उन्हें ठंडी और गरमी का कुछ भी अहसास नहीं होता था एवं उनके शरीर पर ठंडी और गरमी का कोई भी प्रभाव दिखाई नहीं देता था. साईं बाबा दिन में किसी से मिलते नही थे और रात में उन्हें किसी का डर नही था इसलिए वे सभी की मदद किया करते थे.

लोगो को समाज कल्याण के कार्य करना, लोगो की मदद करना, लोगो पर दया दिखाना तथा उन्हें प्यार देना, ईश्वर भक्ति के पाठ पढाना यह सभी अच्छे अच्छे कार्य करने वाले साईं बाबा के जीवन के बारे में जान ना आज भी रहस्य बना हुआ हैं.

कुछ इतिहासकारो का मान ना है की उनका जन्म ब्राह्मण परिवार में हुआ था. बाद में किसी सूफी फ़क़ीर ने उन्हें गोद ले लिया था. हालाकि आगे चलकर उन्होंने खुद बताया था की की वह एक हिंदू गुरु के शिष्य हैं.

कुछ लोग साईं बाबा को पागल समझकर उन पर पत्थर फेंका करते थे. इस के लिए उन्होंने गांव छोड़ दिया था. माना जाता है की साईं बाबा शिर्डी में तिन साल तक रहे थे फिर एक साल तक वह शिर्डी में नहीं दिखे. फिर हमेशा के लिए साईं बाबा सन 1858 में शिर्डी वापिस लौट करके आ गए थे.

Shree ram raksha stotra in hindi mein lyrics PDF Download free

साईं बाबा का असली नाम क्या था

साईं बाबा का असली नाम हरिबाबू भुसारी था.

ऐसा माना जाता है की साईं बाबा का जन्म ब्राह्मण परिवार में हुआ था जिनका गोत्र कश्यप था. उनके पिता का नाम गोविंद भाऊ और माता का नाम देवकी अम्मा था. उन्हें पांच संतान थी जिनके नाम रघुपत भुसारी, दादा भुसारी, हरिबाबू भुसारी, अम्बादास भुसारी तथा बालवंत भुसारी था. साईं बाबा इनकी तीसरी संतान थे जिनका नाम हरिबाबू भुसारी था.

om-shirdi-sai-ram-baba-miracle-mantra-for-health-and-job (3)

साईं बाबा की मृत्यु कैसे हुई

साईं बाबा की मृत्यु 15 अक्टूबर को सन 1918 में हुई थी. जब उनका निधन हुआ उस दिन दशहरा का दिन था. साईं बाबा ने उनके निधन का संकेत लोगो को पहले से दे दिया था उनका मान ना था की दशहरा का दिन दुनिया से विदाई लेने का सबसे अच्छा दिन हैं.

साईं बाबा के निधन से हिंदू और मुसलमान दोनों धर्मो के लोगो में दुविधा थी की उनका अंतिम संस्कार किस धर्म के अनुसार किया जाए. क्योंकि हिंदू उन्हें भगवान मान के पूजते थे और मुस्लिम उन्हें यवन फ़क़ीर मानते थे. इसलिए सरकारी अधकारियो की मौजूदगी में वोटिंग कराया गया था की अंतिम संस्कार किस रीती से हो. तब हिंदू रीती से अंतिम संस्कार हो इस पर वोट ज्यादा मिले थे और हिंदू रीती से अंतिम संस्कार हो वह पक्ष विजयी हुआ था.

दक्षिणावर्ती शंख की असली पहचान क्या है | दक्षिणावर्ती शंख के फायदे और प्रकार

निष्कर्ष

दोस्तों अगर आप भी जीवन में उन्नति करना चाहते है और साईं बाबा को मानते है तो हमारे द्वारा बताए गए मंत्रो का जाप करे. आपको सफलता जरुर प्राप्त होंगी. इस आर्टिकल (Om shirdi sai ram baba miracle mantra for health and job) में हमने साईं बाबा के इतिहास के बारे में भी आपको बताया उन्होंने अपना संपूर्ण जीवन लोगो के कल्याण में लगाया. और वह किसी भी धर्म में नही मानते थे उन्होंने ‘सबका मालिक एक है’ का संदेश लोगो को दिया.

सबसे शक्तिशाली मंत्र देवी काली | सबसे ताकतवर मां काली का सुरक्षा घेरा मंत्र

साईं बाबा का असली नाम हरिबाबू भुसारी था ऐसा माना जाता हैं. साईं बाबा की कृपा और आशीर्वाद आप पर भी बने रहे. आशा करते है आपको हमारा यह आर्टिकल अच्छा लगा होगा.