पैर के नीचे नाम लिखकर वशीकरण मंत्र / तुलसी के पत्ते पर नाम लिखकर वशीकरण

पैर के नीचे नाम लिखकर वशीकरण मंत्र / तुलसी के पत्ते पर नाम लिखकर वशीकरण – वशीकरण एक ऐसी प्रक्रिया जिसे करने से आप किसी को भी अपने वश में कर सकते हैं. आज के समय में वशीकरण बहुत ही अधिक चल रहा हैं. अगर किसी का काम बल से नहीं होता हैं. तो वह अपना काम कराने के लिए वशीकरण करता हैं.

कोई अपने मालिक पर वशीकरण करता है. तो कोई प्रेमी अपनी प्रेमिका पर वशीकरण करता हैं. वशीकरण करके कोई भी व्यक्ति किसी भी व्यक्ति को अपने वश में कर सकता हैं.

pair-ke-niche-nam-likhkr-vanshikaran-matr-tule-ke-patte (3)

दोस्तों आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से पैर के नीचे नाम लिखकर वशीकरण करने का तरीका बताने वाले हैं. तथा वशीकरण के और भी तरीके आपको बताएगे.

पैर के नीचे नाम लिखकर वशीकरण

पैर के नीचे नाम लिखकर वशीकरण करने के लिए नीचे दी गई बातों को ध्यान में रखे और पालन करे.

  • सबसे पहले तो आप वशीकरण करने वाले हैं. इस बात का पता किसी को भी नही चलना चाहिए. जब भी आप वशीकरण करे एकांत में करे. आपके आसपास कोई भी नही होना चाहिए.
  • अब आपको अपने पैर के नीचे उस व्यक्ति का नाम लिखना हैं. जिसका आप वशीकरण करना चाहते हैं.
  • अब आपको नीचे दिए गए मंत्र का 11 बार जाप करना हैं.

पैर के नीचे नाम लिखकर वशीकरण करने का मंत्र

ऊं ह्रं ह्रं ह्रं ह्रीं ह्रीं ह्रीं

ह्रूं व वा वि वी वु वू

वे वै वो वौ वं व:।।

बस सिर्फ आपको इतना करना हैं. यह करने से आप किसी भी स्त्री-पुरुष या अपने मालिक तथा कोई भी व्यक्ति को अपने वश में कर सकते हैं. यह उपाय करने से वह व्यक्ति पुरे तरीके से आपके काबू में आ जाएगा. और आप जो कहेगे वही करेगा.

चांदी का चंद्रमा पहनने के लाभ / चांदी की अंगूठी महिलाओं के लिए पहनने के लाभ

कपूर पर नाम लिखकर वशीकरण

अगर आप कपूर पर नाम लिखकर किसी व्यक्ति का वशीकरण करना चाहते हैं. तो सबसे पहले एक देशी बड़ा कपूर लीजिए. अब इस कपूर पर जिसका वशीकरण चाहते हैं. उसका नाम लिखिए. देशी कपूर होने की वजह से वह कपूर बड़ा होगा. तो कपूर के पीछे नीचे दिया गया मंत्र लिख दीजिए.

कपूर पर नाम लिखकर वशीकरण करने का  मंत्र

ओम वस्य मुखी राज मुखी स्वाहा

यह मंत्र कपूर पर लिखना भी है. और अपने दाहिने हाथ पर रखकर 108 बार इस मंत्र का जाप करना हैं. उसके बाद किसी कटोरी में कपूर को रखकर जला देना हैं. इससे कोई भी व्यक्ति होगा. आपके वश में आसानी से आ जाएगा.

असाध्य रोग ठीक करने का मंत्र | असाध्य रोग दूर करने के टोटके

तुलसी के पत्ते पर नाम लिखकर वशीकरण

पुराने समय में तुलसी के पत्ते के द्वारा वशीकरण किया जाता था. तुलसी के पत्ते पर नाम लिखकर वशीकरण करने के लिए तुलसी के तिन पत्ते लीजिए. उस पर आप जिसका वशीकरण करना चाहते है. उस व्यक्ति का नाम लाल पेन से लिख लीजिए.

pair-ke-niche-nam-likhkr-vanshikaran-matr-tule-ke-patte (1)

यह क्रिया आपको शुक्रवार के दिन सुबह 6 बजे से 6 बजकर 16 मिनिट होने के बीच में करनी हैं. नाम लिखने के बाद तुलसी के पत्ते को अपने हाथ पर रखिए. अब नीचे दिए गए मंत्र का 131 बार जाप करना हैं.

तुलसी के पत्ते पर नाम लिखकर वशीकरण करने का  मंत्र

ओम त्रिपुराय विद्महे तुलसी पतराय धीमहि | तन्नो: तुलसी प्रचोदयात

अब उस इंसान का नाम बोलकर तिन बार तुसली के पत्ते पर फूंक मार दे. अब तुलसी के पत्ते को तब तक अपने पास रखे. जब तक उस व्यक्ति का आप पर फोन नही आता. या फिर वह व्यक्ति आपसे मिल नही लेता.

उसके बाद तुलसी के पत्ते को कही पर बहते हुए पानी में बहा दीजिए.

धनदायक शिव मंत्र और जाप विधि | नंदी के कान में क्या बोला जाता है

फोटो के पीछे नाम लिखकर वशीकरण

फोटो के पीछे नाम लिखकर वशीकरण करने के लिए आपके पास उस व्यक्ति का फोटो होना चाहिए. जिसका आप वशीकरण करना चाहते हैं. अगर आपके पास फोटो है. तो फोटो के पीछे उस व्यक्ति का पूरा नाम लाल पेन से लिख दीजिए.

अब रात को सोने के समय उस व्यक्ति का नाम लिखा फोटो अपने हाथ में ले. नीचे दिए गए मंत्र का 21 बार जाप करे.

फोटो के पीछे नाम लिखकर वशीकरण करने का  मंत्र

 ह्रीं ह्रीं वषयभूतेषु करणं नमः

अब फोटो को तकिये के नीचे रखकर सो जाए. यह प्रक्रिया आपको लगातार 21 दिन तक करनी हैं. इसके बाद आपका काम हो जाएगा.

pair-ke-niche-nam-likhkr-vanshikaran-matr-tule-ke-patte (2)

निष्कर्ष

दोस्तों आज हमने आपको इस पैर के नीचे नाम लिखकर वशीकरण आर्टिकल के माध्यम से पैर के नीचे नाम लिखकर वशीकरण मंत्र का तरीका बताया. तथा वशीकरण करने के और भी तरीके आपको बताए हैं. आप जो चाहे वह तरीका अपना सकते हैं.

दोस्तों हम आशा करते है की आपको हमारा पैर के नीचे नाम लिखकर वशीकरण वाला आर्टिकल पैर के नीचे नाम लिखकर वशीकरण मंत्र / तुलसी के पत्ते पर नाम लिखकर वशीकरणअच्छा लगा होगा. धन्यवाद

दुश्मन को पागल करने का टोटका | कपूर से दुश्मन को बीमार करना

पूजा कब नहीं करनी चाहिए | सुबह कितने बजे उठकर पूजा करनी चाहिए

ब्रह्मचर्य के नुकसान क्या है | ब्रह्मचर्य पालन के नियम, अखंड ब्रह्मचर्य क्या है