पूजा करते समय छींक आना शुभ है या अशुभ

पूजा करते समय छींक आना शुभ है या अशुभ – छींक आना एक आम समस्या है. सर्दी-जुकाम या धुल की वजह से छींक आती हैं. लेकिन आपने काफी बार हमारे बड़े-बुजुर्गो से सुना होगा की जब भी हम बाहर जाते है. उस समय छींक का आना अशुभ माना जाता हैं.

Pooja-krte-samay-chink-aana-shubh-h-ya-ashubh (3)

हमारे भारतीय समाज में छींक से जुडी काफी सारी मान्यताएं प्रचलित हैं. जैसे की हमने काफी बार यह भी सुना है. छींक दिया अब हमारा काम नहीं होगा. अर्थात छींक को अपशगुन माना जाता हैं.

दोस्तों आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से बताने वाले है की पूजा करते समय छींक आना शुभ है या अशुभ तथा छींक के अशुभ प्रभाव को कैसे दूर किया जा सकता है.

तो आइये हम आपको इस बारे में संपूर्ण जानकारी प्रदान करते हैं.

पूजा करते समय छींक आना शुभ है या अशुभ

अगर आपको पूजा करते समय छींक आती है. तो यह हमारे लिए अशुभ माना जाता हैं. कोई भी धार्मिक-अनुष्ठान या घर में पूजा करते समय आपको या किसी और को अगर छींक आती हैं. तो यह अपशगुन माना जाता हैं. पूजा करते समय छींक आना हमें यह संकेत देता है. की हमारे कार्य में बाधाएं उत्पन्न होने वाली हैं.

पूजा करते समय सिर भारी होना क्या है कारण और क्या है संकेत

छींक के अशुभ प्रभाव को कैसे दूर किया जा सकता है

छींक आना एक आम बात हैं. अगर हमें एक या दो बार छींक आती है. तब तक तो सब सही हैं. लेकिन हमे छींक बार-बार या लगातार आने लगे. तो यह हमारे लिए बहुत बड़ी परेशानी हो जाती हैं. इससे हमारा स्वभाव भी चिडचिडा हो जाता हैं. तथा छींक के कारण सिरदर्द आदि की समस्या भी उत्पन्न हो जाती हैं.

अगर हम कुछ शुभ कार्य या पूजा आदि कर रहे है. उस समय अगर हमे छींक आती है. तो यह अशुभ माना जाता हैं. ऐसा माना जाता है. की शुभ कार्य या पूजा-अनुष्ठान आदि के दौरान हमे या किसी और को छींक आती है. तो यह बहुत बड़ा अपशगुन माना जाता हैं.

पितृ दोष की पूजा कहां पर होती है पितृ दोष शांति के अचूक उपाय

ऐसा माना जाता है की शुभ कार्य में छींक आने से कुछ ना कुछ बाधाएं आ सकती हैं. अब छींक आना एक आम बात हैं. कोई भी व्यक्ति छींक को रोक तो नहीं सकता हैं. लेकिन धार्मिक कार्य के दौरान अगर हमे या किसी और को छींक आ जाती है. तो छींक के अशुभ प्रभाव को दूर किया जा सकता हैं. इसके लिए आपको नीचे दिया गया उपाय करना होगा.

अगर कोई असमय छींक देता है. तो आप “ओम राम रामेति शांति शांति” मंत्र का जाप कर सकते हैं. यह मंत्र जाप के पश्चात आप किसी भी मंदिर में जाकर भगवान की पूजा-अर्चना करे. तथा उन्हें प्रसाद आदि का भोग लगाए.

इसके पश्चात प्रसाद वहा मौजूद लोगो में बांट दे. यह उपाय करने से छींक का अशुभ प्रभाव समाप्त हो जाएगा. और आपके रास्ते में आने वाली बाधाएं नष्ट हो जाती हैं.

Pooja-krte-samay-chink-aana-shubh-h-ya-ashubh (1)

कालसर्प पूजा के बाद प्रतिबंध / कालसर्प दोष निवारण मंत्र तथा पूजा सामग्री

हर बार अशुभ ही नहीं शुभ भी होती है ऐसी छींक

  • अगर आपको भोजन करते समय छींक आती है. तो यह शुभ माना जाता हैं.
  • अगर दवाई लेते समय आपको छींक आती हैं. तो यह शुभ माना जाता हैं. इससे संकेत मिलता है. की व्यक्ति जल्दी ठीक होने वाला हैं.
  • घर से बाहर निकलते समय अगर एक छींक आती हैं. तो यह अशुभ माना जाता हैं. लेकिन एक से अधिक छींक आती हैं. तो यह शुभ माना जाता हैं. इससे आपको संकेत मिलता है. की आप जिस कार्य के लिए जा रहे हैं. उसमें सफलता मिलने वाली हैं.

Pooja-krte-samay-chink-aana-shubh-h-ya-ashubh (2)

नर्मदेश्वर शिवलिंग की पहचान नर्मदेश्वर शिवलिंग की पूजा कैसे करें 

निष्कर्ष

दोस्तों आज हमने आपको इस आर्टिकल के माध्यम से बताया की पूजा करते समय छींक आना शुभ है या अशुभ तथा छींक के अशुभ प्रभाव को कैसे दूर किया जा सकता है. हम उम्मीद करते है की आज का हमारा यह आर्टिकल आपके लिए उपयोगी साबित हुआ होगा.

दोस्तों हम आशा करते है की आपको हमारा यह पूजा करते समय छींक आना शुभ है या अशुभ / छींक के अशुभ प्रभाव को कैसे दूर किया जा सकता है आर्टिकल अच्छा लगा होगा. धन्यवाद

घर में शिवजी की पूजा कैसे करें | घर में कौन सा शिवलिंग रखना चाहिए

तुलसी माता को सिंदूर लगाना चाहिए | तुलसी माता की पूजा कैसे की जाती है

दीपक के टोटके जाने / दीपक जलाने का मंत्र | पूजा में दीपक का महत्व

1 thought on “पूजा करते समय छींक आना शुभ है या अशुभ”

Leave a Comment