शिवलिंग पर कितने बेलपत्र चढ़ाने चाहिए | बेलपत्र चढ़ाने का सही तरीका, विधि, मंत्र

शिवलिंग पर कितने बेलपत्र चढ़ाने चाहिए | बेलपत्र चढ़ाने का सही तरीका, विधि, मंत्र – बेलपत्र शिवजी का अतिप्रिय माना जाता है. इसलिए शिवजी के भक्त शिवलिंग पर बेलपत्र चढ़ा कर उनको प्रसन्न करते हैं. बेलपत्र से शिवजी की पूजा करने से भोलेनाथ जल्दी ही भक्त की मनोकामना पूर्ण करते हैं. लेकिन काफी लोग बेलपत्र चढाने में कुछ गलतियां करते है. बेलपत्र भी मंत्र और विधि सहित चढाने से फायदा होता हैं.

Shivling-par-kitne-belpatr-chdhane-chahie-tarika-vidhi-mantr (2)

अगर आप भी शिवलिंग पर बेलपत्र चढाते है. तो आज का हमारा यह आर्टिकल आपके लिए उपयोगी साबित होना वाला हैं. इसलिए हमारा यह आर्टिकल अंत तक जरुर पढ़े.

दोस्तों आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से बताने वाले है की शिवलिंग पर कितने बेलपत्र चढ़ाने चाहिए. इसके अलावा शिवलिंग पर बेलपत्र चढ़ाने की विधि तथा बेलपत्र चढ़ाने का मंत्र भी बताने वाले हैं. तथा इस टॉपिक से संबंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान करेगे.

तो आइये हम आपको इस बारे में संपूर्ण जानकारी प्रदान करते हैं.

शिवलिंग पर कितने बेलपत्र चढ़ाने चाहिए

शिवलिंग पर आप अपनी इच्छा अनुसार 11 या 21 बेलपत्र चढ़ा सकते हैं.

नर्मदेश्वर शिवलिंग की पहचान नर्मदेश्वर शिवलिंग की पूजा कैसे करें

बेलपत्र चढ़ाने की विधि / बेलपत्र चढ़ाने का सही तरीका

बेलपत्र चढ़ाने की विधि और सही तरीका हमने नीचे बताया हैं.

  • सबसे पहले तो आपने जितने बेलपत्र चढ़ाने की इच्छा रखी है. उतने बेलपत्र ले ले. सभी लोग अपनी इच्छा अनुसार 11 या 21 बेलपत्र शिवलिंग पर चढ़ाते हैं.
  • अब बेलपत्र लेने के बाद साफ पानी से धो ले.
  • अब पानी से धोए हुए बेलपत्र को एक दूध से भरे कटोरे में डाल दीजिए.
  • अब दूध में से बेलपत्र को निकालकर एक बार गंगाजल से धो लीजिए.
  • अब आपने जितने भी बेलपत्र स्वच्छ किए है. सभी बेलपत्र पर चंदन से “ॐ” बना लीजिए.
  • अब “ओम नम: शिवाय” मंत्र का जाप करते हुए तथा थोडा सा शिवलिंग पर इत्र छिडककर एक एक करके बेलपत्र चढ़ाए.
  • लेकिन बेलपत्र चढ़ाते समय यह ध्यान रखे. की बेलपत्र का चिकना हिस्सा शिवलिंग के ऊपर वाले भाग में होना चाहिए.
  • बेलपत्र चढ़ाते समय इस बात का भी ध्यान रखे की बेलपत्र में चक्र और वज्र नहीं होना चाहिए. चक्र और वज्र वाले बेलपत्र खंडित माने जाते है.
  • शिवलिंग पर बीना जल के बेलपत्र नहीं चढ़ाना चाहिए. इसलिए जब भी आप शिवलिंग पर बेलपत्र चढ़ाए जल अर्पित करते हुए ही चढ़ाए.
  • बेलपत्र की पत्तिया कटी या फटी नही होनी चाहिए. इस बात का भी विशेष ध्यान रखे.

Shivling-par-kitne-belpatr-chdhane-chahie-tarika-vidhi-mantr (3)

गुलाब कितने प्रकार के होते हैं | गुलाब में ज्यादा फूल कैसे लाएं

बेलपत्र चढ़ाने का मंत्र

बेलपत्र चढ़ाते समय आप नीचे दिया गया मंत्र उच्चारण करे.

तुलसी के पास कौन सी पांच चीजें नहीं रखनी चाहिए | तुलसी का पौधा छत पर लगा सकते हैं 

बेलपत्र चढ़ाने का मंत्र

त्रिदलं त्रिगुणाकारं त्रिनेत्रं च त्रिधायुतम् त्रिजन्मपापसंहारं बिल्वपत्रं शिवार्पणम्

पांच पत्ती वाला बेलपत्र का महत्व

धार्मिक शास्त्रों के अनुसार ऐसा माना जाता है. की पांच पत्ती वाला बेलपत्र हमारे पांच प्रमुख देवता ब्रह्मा, विष्णु, महेश, गणेश और माता भगवती से संबंधित है. इसलिए पांच पत्ती वाले बेलपत्र को अधिक महत्व दिया जाता हैं.

विमला तुलसी की पहचान / विमला तुलसी का पौधा कैसा होता है

भोलेनाथ को चढाने वाले बेलपत्र में चक्र और वज्र किस प्रकार ध्यान रखे  

अगर बेलपत्र पर अधिक धारियां है. तथा बेलपत्र पर अधिक चक्र दिखाई दे रहे है. तो ऐसे बेलपत्र खंडित माने जाते हैं. और इसको शिवलिंग पर चढ़ाना वर्जित माना जाता हैं. अगर आपको बेलपत्र पर अधिक धारियां दिखाई दे. तो समझ ले की वह चक्र और वज्र वाला बेलपत्र हैं.

बेलपत्र पर क्या लिखना चाहिए

आप बेलपत्र पर चंदन से ओम, ओम नम: शिवाय या फिर राम लिख सकते है. कई बार शिवलिंग की पूजा अर्चना करने के बाद तथा शिवजी पर श्रद्धा रखने के पश्चात भी हमारी मनोकामना पूर्ण नहीं होती हैं.

शाम को शिवलिंग पर जल चढ़ाना चाहिए या नहीं / शिवलिंग को घर में रखना चाहिए या नहीं

अगर आपके साथ भी ऐसा होता है. तो बेलपत्र पर चंदन से राम, ओम नम: शिवाय या फिर ओम लिखकर शिवलिंग पर चढ़ाने से जल्दी ही मनोकामना पूर्ण होती हैं. जिनकी शादी नहीं हो रही है. उन्हें यह उपाय अचूक करना चाहिए. इससे जल्दी ही शादी के योग बनते हैं.

Shivling-par-kitne-belpatr-chdhane-chahie-tarika-vidhi-mantr (1)

निष्कर्ष

दोस्तों आज हमने आपको इस आर्टिकल के माध्यम से बताया की शिवलिंग पर कितने बेलपत्र चढ़ाने चाहिए. इसके अलावा शिवलिंग पर बेलपत्र चढ़ाने की विधि तथा बेलपत्र चढ़ाने का मंत्र भी बताया है. हम उम्मीद करते है की आज का हमारा यह आर्टिकल आपके लिए उपयोगी साबित हुआ होगा. अगर उपयोगी साबित हुआ है तो आगे जरुर शेयर करे.

दोस्तों हम आशा करते है की आपको हमारा यह शिवलिंग पर कितने बेलपत्र चढ़ाने चाहिए / बेलपत्र चढ़ाने का सही तरीका, विधि, मंत्र आर्टिकल अच्छा लगा होगा. धन्यवाद

शिवरात्रि का व्रत कब खोला जाता है / महाशिवरात्रि व्रत नियम

एकादशी व्रत में दूध पीना चाहिए या नहीं / एकादशी के दिन सिर धोना चाहिए या नहीं

भगवान विष्णु का अंतिम अवतार कौन सा है कल्कि अवतार की पहचान

2 thoughts on “शिवलिंग पर कितने बेलपत्र चढ़ाने चाहिए | बेलपत्र चढ़ाने का सही तरीका, विधि, मंत्र”

Leave a Comment