शुक्र ग्रह का इत्र, रंग, प्रतीक पत्थर / शुक्र ग्रह का प्रभाव

शुक्र ग्रह का इत्र, रंग, प्रतीक पत्थर / शुक्र ग्रह का प्रभाव – इत्र एक सुगंधित पदार्थ है. जिसका इस्तेमाल काफी लोग करते हैं. कुछ लोग इत्र का इस्तेमाल कपडे में लगाने के लिए करते हैं. तो कुछ लोग इत्र का इस्तेमाल तांत्रिक विद्या में करते हैं. ऐसा माना जाता है की इत्र इतना पावर फुल होता है की वह देवता को भी वश में कर सकता हैं. इत्र का इस्तेमाल पुराने समय से ही होता आया हैं. और आज के समय में भी इत्र का इस्तेमाल उतना ही होता हैं. जितना पुराने समय में होता था.

Shukr-grah-ka-itr-rang-Pratik-patthar-prabhav (2)

दोस्तों आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से शुक्र ग्रह का इत्र तथा शुक्र ग्रह का प्रभाव बताने वाले हैं. इसके अलावा इस टॉपिक से जुडी अन्य और भी जानकारी प्रदान करने वाले हैं. तो यह सभी महत्वपूर्ण जानकारी पाने के लिए हमारा यह आर्टिकल अंत तक जरुर पढ़े.

तो आइये हम आपको इस बारे में संपूर्ण जानकारी प्रदान करते हैं.

शुक्र ग्रह का इत्र

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार शुक्र ग्रह को शांत करने के लिए इत्र का इस्तेमाल किया जा सकता हैं. इसके लिए इत्र कोई भी हो चलेगा. लेकिन इत्र सुगंधीदार होना चाहिए. ज्योतिष शास्त्र के अनुसार जिस जातक की कुंडली में शुक्र का बुरा प्रभाव होता हैं. उन जातक के जीवन में काफी सारी समस्या आती हैं. ऐसी समस्या से छुटकारा पाने के लिए इत्र का इस्तेमाल किया जा सकता हैं.

अगर किसी जातक की कुंडली में शुक्र का बुरा प्रभाव हैं. तो शुक्र ग्रह को शांत करने के लिए किसी भी शुक्ल पक्ष के शुक्रवार के दिन माता लक्ष्मी को इत्र तथा श्रृंगार अर्पित करना चाहिए. ऐसा करने से माता लक्ष्मी के आशीर्वाद से शुक्र ग्रह के बुरे प्रभाव से छुटकारा मिलता हैं. और शुक्र ग्रह शांत होता हैं.

Shukr-grah-ka-itr-rang-Pratik-patthar-prabhav (3)

राशि अनुसार हनुमान मंत्र जाने – सारे दुखो को मिटाने का रास्ता

शुक्र ग्रह का प्रभाव

अगर ग्रह के कुछ प्रभाव हमने नीचे बताए हैं.

  • अगर किसी जातक की कुंडली में शुक्र का बुरा प्रभाव हैं. तो उस जातक को काफी परेशानी का सामना करना पड़ सकता हैं. शुक्र के बुरे प्रभाव के कारण घर की सुख सुविधा में कमी आती हैं. तथा परिवार में आपसी मतभेद बढ़ जाता है.
  • शुक्र ग्रह के बुरे प्रभाव के कारण वैवाहिक जीवन में भी अशांति आती हैं. पति-पत्नी के बीच झगड़े आदि बढ़ जाते हैं. और दोनों के बीच प्यार में कमी आती हैं.
  • अगर किसी जातक की कुंडली में शुक्र कमजोर हैं. तो उसके घर में दरिद्रता आती हैं. इसलिए शुक्र को मजबूत करने के जल्दी उपाय निकालना चाहिए.
  • जिस जातक की कुंडली में शुक्र ग्रह का बुरा प्रभाव होता हैं. उनके मान सम्मान में कमी आती हैं.
  • शुक्र ग्रह के बुरे प्रभाव के कारण जातक को स्त्री सुख से वंचित रहना पड़ता हैं.
  • अगर आपके जीवन में भी ऐसी कोई परेशानी है. तो ज्योतिष को अपनी कुंडली दिखाकर शुक्र ग्रह को मजबूत करने के उपाय करने चाहिए.

राहु मंत्र जाप के लाभ, जाप विधि / राहु मंत्र क्या है 

शुक्र ग्रह का रंग

शुक्र ग्रह को प्रेम और सौभाग्य का ग्रह माना जाता हैं. इसके लिए इसका रंग सफ़ेद चमकीला और गुलाबी होता हैं. जिन लोगो के जीवन में रिश्तो को लेकर कोई परेशानी हैं. या फिर वैवाहिक जीवन में समस्याएं हैं. तो उन्हें सफ़ेद चमकीली तथा गुलाबी रंग की वस्तु का इस्तेमाल करना चाहिए.

प्रेम विवाह के लिए शिव पूजा – प्रेम विवाह के लिए मंत्र 

शुक्र ग्रह का प्रतीक पत्थर

ओपल रत्न या पत्थर को शुक्र ग्रह का प्रतीक पत्थर माना जाता हैं. ज्योतिष शास्त्र के अनुसार ऐसा माना जाता हैं की जिन जातक की कुंडली में शुक्र ग्रह कमजोर हैं. उन्हें ओपल का पत्थर या रत्न पहनना चाहिए. इससे शुक्र से संबंधित सभी समस्या दूर हो जाती हैं.

शुक्र ग्रह का स्वामी कौन है

शुक्र ग्रह का कोई भी स्वामी नहीं हैं. लेकिन तुला और वृषभ राशि का स्वामी शुक्र ग्रह को माना जाता हैं.

Shukr-grah-ka-itr-rang-Pratik-patthar-prabhav (1)

भाग्योदय के लक्षण / भाग्योदय के सरल उपाय

निष्कर्ष

दोस्तों आज हमने आपको इस आर्टिकल के माध्यम से शुक्र ग्रह का इत्र तथा शुक्र ग्रह का प्रभाव बताया है. इसके अलावा इस टॉपिक से जुडी अन्य और भी जानकारी प्रदान की हैं.

हम उम्मीद करते है की आज का हमारा यह आर्टिकल आपके लिए उपयोगी साबित हुआ होगा. अगर उपयोगी साबित हुआ हैं. तो आगे जरुर शेयर करे. ताकि अन्य लोगो तक भी यह जानकारी पहुंच सके.

दोस्तों हम आशा करते है की आपको हमारा यह शुक्र ग्रह का इत्र, रंग, प्रतीक पत्थर / शुक्र ग्रह का प्रभाव आर्टिकल अच्छा लगा होगा. धन्यवाद

वार्षिक श्राद्ध कब करना चाहिए – वार्षिक श्राद्ध विधि मंत्रपूजन सामग्री

भोग लगाने की विधि / भोग लगाने का मंत्र 

सच्चा धर्म कौन सा है / सबसे पवित्र धर्म कौन सा है / असली धर्म कौन सा है

1 thought on “शुक्र ग्रह का इत्र, रंग, प्रतीक पत्थर / शुक्र ग्रह का प्रभाव”

Leave a Comment