रक्षा ताबीज बनाने की विधि / ताबीज में क्या भरा जाता है

रक्षा ताबीज बनाने की विधि / ताबीज में क्या भरा जाता है – आज के समय में स्वयं की रक्षा बहुत ही जरूरी हैं. अगर हम कुछ अच्छे कार्य करते है या हमारे क्षेत्र में सफलता प्राप्त करते हैं. तो हमारी सफलता तथा कार्य अन्य लोगो के लिए जलन बन जाते हैं. और ऐसे लोगो की बुरी नजर हमे लग जाती हैं. इस कारण हमारे कार्यो में बाधा उत्पन्न होने लगती हैं. ऐसे में स्वयं की रक्षा करना जरुरी बन जाता हैं.

Raksha-tabeej-bnanae-ki-vidhi-hanuman-me-kya-bhara-jata-h (2)

स्वयं की रक्षा करने के लिए कुछ लोग रक्षा ताबीज धारण करते हैं. यह रक्षा ताबीज बनाने की विधि हर किसी को पता नहीं होती हैं. अगर आप भी स्वयं की रक्षा चाहते हैं. तो रक्षा ताबीज पहनना जरूरी हैं. इसलिए हम रक्षा ताबीज बनाने की विधि आपको इस आर्टिकल में बताएगे. इसलिए हमारा यह आर्टिकल अंत तक जरुर पढ़े.

दोस्तों आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से रक्षा ताबीज बनाने की विधि तथा हनुमान ताबीज बनाने की विधि बताने वाले हैं. इसके अलावा इस टॉपिक से जुडी अन्य और भी जानकारी प्रदान करने वाले हैं.

तो आइये हम आपको इस बारे में संपूर्ण जानकारी प्रदान करते हैं.

रक्षा ताबीज बनाने की विधि     

रक्षा ताबीज बनाने की संपूर्ण विधि हमने नीचे बताई हैं.

  • ज्योतिष शास्त्र के अनुसार स्वयं की रक्षा के लिए आक की जड़ बहुत ही लाभकारी होती हैं. रक्षा ताबीज बनाने के लिए सबसे पहले आपको कही से आक की जड़ ले आना हैं.
  • अब आपको कही से तांबे या चांदी का ताबीज ले आना हैं. ताबीज आपको किसी भी पुजापा वालो की दुकान पर या चांदी का ताबीज ज्वेलरी की दुकान पर मिल जाएगा.
  • यह दोनों वस्तु लेने के बाद आपके घर में ही गणेश जी की प्रतिमा के आगे यह दोनों वस्तु रख देनी है.
  • अब थोड़ी देर बाद “ओम गं गणपतये नम: मंत्र का जाप करते हुए ताबीज और आक की जड़ को अभिमंत्रित करे.
  • दोनों वस्तु अभिमंत्रित होने के बाद पवित्र हो जाएगी. इसके पश्चात आक की जड़ को ताबीज में बंध करके हरे रंग का धागा बांधकर अपने गले में धारण करे.
  • इस प्रकार से आपका रक्षा ताबीज तैयार हो जाएगा. और इसके धारण करने के बाद तुरंत ही आपको फायदा दिखाई देने लगेगा.

अति प्राचीन शाबर मंत्र कौन सा है / शाबर मंत्र के नुकसान

ताबीज में क्या भरा जाता है

ताबीज में अलग-अलग प्रकार की वस्तु भरी जाती हैं. जिस प्रकार का टोटका और समस्या होती हैं. उससे जुडी कुछ वस्तु ताबीज में भरी जाती हैं. जैसे की हमने ऊपर बताया रक्षा ताबीज में आक की जड़ भरी जाती हैं. तो कुछ तांत्रिक उपाय में व्यक्ति के तथा पशु के बाल, नाख़ून आदि भरे जाते हैं.

Raksha-tabeej-bnanae-ki-vidhi-hanuman-me-kya-bhara-jata-h (1)

मनमुटाव दूर करने का उपाय / रिश्तों में मिठास लाने के उपाय

हनुमान ताबीज बनाने की विधि

हनुमान ताबीज बनाने की संपूर्ण विधि हमने नीचे बताई हैं. यह हनुमान जी का रक्षा ताबीज हैं.

  • सबसे पहले आपको शनिवार या मंगलवार के दिन शतरंगी रंग का धागा लेना हैं.
  • अब उस धागे के बीच में 21 गांठ लगानी हैं.
  • इसके पश्चात हनुमान जी को लगाया हुआ या अर्पित किया हुआ सिंदूर आपको हनुमान मंदिर से ले आना हैं.
  • अब इस धागे को सिंदूर से रंगकर चांदी या तांबे के ताबीज में भर देना हैं.
  • अब शाम के समय ताबीज को एक अच्छे वस्त्र पर स्थापित करके हनुमान जी का नाम लेते हुए दीपक और धूपबत्ती आदि जलाए.
  • यह सभी प्रक्रिया पूर्ण हो जाने के बाद पांच बार हनुमान चालीसा का पाठ करे.
  • अब हनुमान जी से हाथ जोड़कर प्रार्थना आदि करे.
  • यह सभी प्रक्रिया पूर्ण हो जाने के बाद आपका ताबीज तैयार हो चूका हैं. अब आप इस ताबीज को अपने गले में धारण कर सकते हैं. हनुमान जी का यह ताबीज बहुत ही प्रभावशाली माना जाता हैं. इसको शरीर पर धारण करने से स्वयं की रक्षा होती हैं.

ठोड़ी पर तिल का मतलब / ठोड़ी पर गड्ढा होने से क्या होता है 

ताबीज पहनने से क्या होता है?

ताबीज पहनने से बहुत कुछ फायदे होते हैं. जैसे की आपने स्वयं की रक्षा के लिए ताबीज बनवाकर पहना हैं. तो आपकी रक्षा होती हैं. किसी के नजरदोष से बचा जा सकता हैं. किसी की बुरी नजर हमे नहीं लगती हैं. हमारा स्वास्थ्य हमेशा के लिए अच्छा बना रहता हैं. इस प्रकार ताबीज पहनने से विभिन्न प्रकार के फायदे होते हैं.

Raksha-tabeej-bnanae-ki-vidhi-hanuman-me-kya-bhara-jata-h (3)

माथे पर हल्दी का तिलक लगाने के फायदे / नाभि पर हल्दी का तिलक लगाने के फायदे

निष्कर्ष

दोस्तों आज हमने आपको इस आर्टिकल के माध्यम से रक्षा ताबीज बनाने की विधि तथा हनुमान ताबीज बनाने की विधि बताई हैं. इसके अलावा इस टॉपिक से जुडी अन्य और भी जानकारी प्रदान की हैं. हम उम्मीद करते है की आज का हमारा यह आर्टिकल आपके लिए उपयोगी साबित हुआ होगा.

दोस्तों हम आशा करते है की आपको हमारा यह रक्षा ताबीज बनाने की विधि / ताबीज में क्या भरा जाता है आर्टिकल अच्छा लगा होगा. धन्यवाद

पूजा सफल होने के संकेत क्या होते है

किस महीने में जन्मे बच्चे भाग्यशाली होते हैं / जून महीने में जन्मे बच्चे कैसे होते हैं

पूजा करते समय सिर भारी होना क्या है कारण और क्या है संकेत