अपराजिता का फूल किस भगवान को चढ़ता है / सफेद फूल की अपराजिता के फायदे

अपराजिता का फूल किस भगवान को चढ़ता है / सफेद फूल की अपराजिता के फायदे – हम जब भी भगवान की पूजा करते है तब फूलों को काफी अधिक महत्व देते है. अर्थात भगवान की पूजा करने के दौरान उन्हें फुल तो चढाते ही हैं. बिना फुल के पूजा करनी पूजा अधूरी रहने के समान हैं.

हमारे सभी देवी-देवताओं को फुल की सुगंध अत्यंत प्रिय होती हैं. लेकिन कौन से भगवान का कौन सा फुल प्रिय है इसकी जानकारी हमे नहीं हैं. अगर भगवान को उनका प्रिय फुल चढ़ाया जाए तो भगवान प्रसन्न हो जाते हैं. भगवान को प्रसन्न करने के लिए आपको भी उनके प्रिय फुल के बारे में जानना जरूरी हैं.

Aprajita-ka-fool-kis-bhagwan-ko-chadata-h-sdabhar (1)

दोस्तों आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से बताने वाले है की अपराजिता का फूल किस भगवान को चढ़ता है. तथा सदबहार और कनेर फुल किस भगवान को चढ़ाया जाता हैं. इस बारे में भी संपूर्ण जानकारी प्रदान करेगे. तथा अन्य और भी जानकारियां प्रदान करने वाले हैं.

तो आइये हम आपको इस बारे में संपूर्ण जानकारी प्रदान करते हैं.

घर में कौन कौन सी मूर्ति रखनी चाहिए / घर में कितने इंच की मूर्ति रखनी चाहिए

अपराजिता का फूल किस भगवान को चढ़ता है

अपराजिता का फुल नीले रंग का अत्यंत सुंदर फुल होता हैं. यह फुल भगवान विष्णु और शनिदेव का अति प्रिय फुल हैं. अगर आप भी भगवान विष्णु और शनिदेव को प्रसन्न करना चाहते है. तो उन्हें उनका प्रिय अपराजिता का फुल चढ़ाना चाहिए. इससे आपको मानसिक शांति और सुख की प्राप्ति होगी.

कलयुग में कौन से भगवान की पूजा करनी चाहिए / कलयुग में कौन कौन से देवता है

सदाबहार फूल भगवान को चढ़ता है

सदबहार फुल शनि, राहू तथा केतु को शुभ बनानें में हमारी मदद करता हैं. इसके अलावा घर के पूर्व दिशा में सदाबहार फुल रखने घर के लोगो को मान सम्मान मिलता हैं.

Aprajita-ka-fool-kis-bhagwan-ko-chadata-h-sdabhar (2)

सफेद दाग के टोटके और ज्योतिष उपाय 

कनेर का फूल किस भगवान को चढ़ता है

कनेर का फुल भगवान शिव को चढ़ता हैं.

सफेद फूल की अपराजिता के फायदे बताएं / अपराजिता की जड़ के फायदे

सफ़ेद फुल की अपराजिता तथा अपराजिता की जड़ के फायदे हमने नीचे बताए हैं.

  • अगर कोई स्त्री गर्भवती नहीं हो पा रही है. तो अपराजिता की जड़ को पीसकर दूध में मिलाकर किसी कुंवारी कन्या के द्वारा पिलाया जाए. तो बन्ध्या महिला भी गर्भवती हो जाती हैं.
  • शनिवार की रात को अपराजिता की जड़ को गले में धारण करने से भुत-प्रेत का शाया अगर है. तो दूर हो जाता हैं.
  • अगर किसी को किसी जहरीले जानवर ने काट लिया है. तो अपराजिता की जड़ को पीसकर घाव वाली जगह पर लगाने से जहरीले जानवर के विष का प्रभाव खत्म हो जाता हैं.
  • अगर कोई महिला गर्भवती है. तो उन्हें कमर पर अपराजिता की जड़ पहना देने से प्रसव के समय कष्ट कम होगा.
  • अपराजिता की जड़ को पीसकर उसमें बकरी का दूध मिलाकर छोटी-छोटी गोलिया बना ले. अब यह गोलिया घर के चारो दिशा में रख दे. यह उपाय करने से घर को चोरो से रक्षा मिलेगी. तथा घर में कभी चोर नहीं आएगे.
  • अगर आपके घर में नकारात्मक ऊर्जा बनी रहती हैं. तो अपराजिता की जड़ को नीले कपडे में बांधकर घर के दरवाजे पर लटका दे. यह उपाय शनिवार के दिन करे. यह उपाय करने से आपके घर में हमेशा सकारात्मक ऊर्जा बनी रहेगी. यह उपाय आप अपने घर और व्यवसाय वाली जगह पर कर सकते हैं.

छिपकली का सामने गिरना क्या संकेत देता है छिपकली का पैर के नीचे दबकर मर जाना

अपराजिता का पौधा किस दिशा में लगाये

अगर वास्तुशास्त्र की माने तो अपराजिता का पौधा उत्तर, पूर्व, उत्तर-पूर्व दिशा में लगाना शुभ माना जाता हैं. इस दिशा को देवताओं की दिशा माना गया हैं. इसलिए अपराजिता का पौधा उत्तर-पूर्व दिशा में लगाना शुभ माना जाता हैं.

Aprajita-ka-fool-kis-bhagwan-ko-chadata-h-sdabhar (3)

अपराजिता का पौधा किस दिन लगाना चाहिए

अगर आप अपने घर में अपराजिता का पौधा लगाना चाहते हैं. तो गुरुवार या शुक्रवार के दिन लगाए. इस दिन अपराजिता का पौधा घर में लगाना शुभ माना जाता हैं. लेकिन इस दिन भी शुभ चौघडिया देखकर अपराजिता का पौधा लगाना चाहिए.

शनिवार को सूर्य भगवान को जल देना चाहिए या नहीं / सूर्य भगवान को किस दिन जल नहीं चढ़ाना चाहिए

निष्कर्ष

दोस्तों आज हमने आपको इस आर्टिकल के माध्यम से बताया की अपराजिता का फूल किस भगवान को चढ़ता है. तथा अपराजिता की जड़ के फायदे भी आपको बताए हैं. हम उम्मीद करते है की आज का हमारा यह आर्टिकल आप के लिए उपयोगी साबित हुआ होगा.

दोस्तों हम आशा करते है की आपको हमारा यह अपराजिता का फूल किस भगवान को चढ़ता है / अपराजिता की जड़ के फायदे आर्टिकल अच्छा लगा होगा. धन्यवाद

सूर्य को अर्घ्य देने का मंत्रतरीका, फायदे, समय / सूर्य को अर्घ्य क्यों देते हैं

गरुड़ पुराण कब पढ़ना चाहिए / गरुड़ पुराण के टोटके, नियम, और फायदे

नाभि ठीक करने का मंत्र तथा शाबर मंत्र धरन ठीक करने का मंत्र