भृगु संहिता के उपाय, मंत्र – भृगु संहिता की जानकारी

भृगु संहिता के उपाय, मंत्र – भृगु संहिता की जानकारी – भृगु संहिता की रचना ऋषि भृगु के द्वारा की गई थी. यह एक मात्र ऐसा ग्रंथ है. जिसमें ज्योतिष से संबंधित सभी प्रकार की जानकारी प्रदान की गई है. आपको तो पता है की आज के समय में लोगो को ज्योतिष शास्त्र पर कितना भरोसा हैं. आज के समय में जब भी व्यक्ति के ऊपर कोई आफत आती हैं. तो ज्योतिष शास्त्र के द्वारा इसका निवारण किया जाता हैं. और भृगु संहिता में ज्योतिष से संबंधित सभी उपाय बताए गए हैं.

Bhrugu-Sanhita-ke-upay-mantr-jankari-kya-h (2)

दोस्तों आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से भृगु संहिता के उपाय तथा भृगु संहिता की जानकारी बताने वाले हैं. इसके अलावा इस टॉपिक से जुडी अन्य और भी महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान करने वाले हैं. यह सभी महत्वपूर्ण जानकारी पाने के लिए हमारा यह आर्टिकल अंत तक जरुर पढ़े.

तो आइये हम आपको इस बारे में संपूर्ण जानकारी प्रदान करते हैं.

भृगु संहिता के उपाय

भृगु संहिता में बताए गए कुछ उपाय हमने नीचे बताए हैं.

  • ऊँ ऐं हलीं क्लीं आं शं शंकराय सकल जन्मान्तरार्जित पाप विघ्वंशनाय श्रीमते आयुः प्रदाय धनदाय, पुत्र दारादि सौख्य प्रदाय महेश्वराय ते नमः कष्टं घोरभयं वारय वारय पूर्णायुः वितर वितर मध्ये मा खंडितं कुरू कुरू सर्वान कामान् पूरय पूरय शं आं क्लीं हलीं ऐं ऊँ भृगु संहिता में यह मंत्र बताया गया हैं. ऐसा माना जाता है की इस मंत्र का रोजाना 100 बार जाप करने से व्यक्ति के सात जन्मों के पाप कट जाते हैं. इसके अलावा व्यक्ति को सुख, धन, संतान, स्त्री आदि की प्राप्ति होती हैं.
  • मधुमेह के इलाज के बारे में भृगु संहिता में बताया गया हैं. ऐसा माना जाता है की शुक्र दोष के कारण मधुमेह जैसी बीमारी होती हैं. इसके निवारण के लिए आप सबसे पहले आप 100 ग्राम भांग लीजिए. अब इसको कपड़े में लपेटकर 36 घंटे तक पानी में रखे. जिससे यह पूर्ण रूप से शुद्ध हो जाए. अब 36 घंटे बाद इसमें बेलपत्र और तुलसी के पत्ते समान मात्रा में मिलकर अच्छे तरीके से कूटकर सुखाने के लिए रख ले. अब इस पुरे मिश्रण में 50 ग्राम मिश्री काला नमक मिला ले. अब इस औषधि का रोजाना 5 ग्राम सुबह के समय पानी के साथ सेवन करे. यह उपाय करने से मधुमेह जड़ मूल से समाप्त हो जाएगा.

शादी विवाह के श्लोक / शादी के सात वचन हिंदी में 

भृगु संहिता क्या है / भृगु संहिता की जानकारी

भृगु संहिता एक प्राचीन ग्रंथ हैं. जिसकी रचना भृगु ऋषि के द्वारा की गई है. इसके लिए ही इस ग्रंथ का नाम भृगु संहिता हैं. भृगु संहिता एक ऐसा ग्रंथ है. जिसमें ज्योतिष शास्त्र के बारे में संपूर्ण जानकारी प्रदान की गई हैं. काफी ज्योतिष भृगु संहिता का इस्तेमाल ज्योतिष शास्त्र में करते हैं.

Bhrugu-Sanhita-ke-upay-mantr-jankari-kya-h (1)

गर्भ गीता के फायदे / गर्भ संस्कार मंत्र – गर्भ गीता में कितने अध्याय हैं

भृगु संहिता के मंत्र

भृगु संहिता के कुछ मंत्र हमने नीचे बताए है. जिसके जाप से मनुष्य के सभी प्रकार के दोष दूर होते हैं. तथा मनुष्य को सुख की प्राप्ति होती हैं.

हरिवंश पुराण पाठ के फायदे | हरिवंश पुराण इन प्रेगनेंसी

भृगु संहिता के मंत्र

  • ॐ भूर्भुवः स्वः तत्-सवितुर्वरेण्यं भर्गो देवस्य धीमहि धियो यो नः प्रचोदयात्।। सर्व विघ्नं शांन्तं कुरू कुरू स्वाहा।।

  • ॐ सूर्याय नमः,ॐ चन्द्राय नमः,ॐ भौमाय नमः,ॐ बुधाय नमः,ॐ गुरवे नमः,ॐ भृगवे नमः,ॐ शनिश्चराय नमः,ॐ राहवे नमः,ॐ पुच्छानयकाय नमः,ॐ नव-ग्रह रक्षा कुरू कुरू नमः।।

  • ॐ गं गणपतये नमः। सर्व-विघ्न-विनाशनाय, सर्वारिष्ट निवारणाय, सर्व-सौख्य-प्रदाय, बालानां बुद्धि-प्रदाय, नाना-प्रकार-धन-वाहन-भूमि-प्रदाय, मनोवांछित-फल-प्रदाय रक्षां कुरू कुरू स्वाहा।।

  • ॐगुरवे नमः,ॐ श्रीकृष्णाय नमः,ॐ बलभद्राय नमः,ॐ श्रीरामाय नमः,ॐ हनुमते नमः,ॐ शिवाय नमः,ॐ जगन्नाथाय नमः,ॐ बदरीनारायणाय नमः,ॐ श्री दुर्गा-देव्यै नमः।।

  • ॐ मन्येवरं हरिहरादय एव दृष्ट्वा द्रष्टेषु येषु हृदयस्थं त्वयं तोषमेति विविक्षते न भवता भुवि येन नान्य कश्विन्मनो हरति नाथ भवान्तरेऽपि।ॐ नमो मणिभद्रे। जय-विजय-पराजिते! भद्रे! लभ्यं कुरू कुरू स्वाहा।

  • ॐ ऐं ह्रीं क्लीं श्रीबटुक-भैरवाय आपदुद्धारणाय महान्-श्याम-स्वरूपाय दिर्घारिष्ट-विनाशाय नाना प्रकार भोग प्रदाय मम (यजमानस्य वा) सर्वरिष्टं हन हन, पच पच, हर हर, कच कच,राज-द्वारे जयं कुरू कुरू,व्यवहारे लाभं वृद्धिं वृद्धिं,रणे शत्रुन् विनाशय विनाशय,पूर्णा आयुः कुरू कुरू,स्त्री-प्राप्तिं कुरू कुरू,हुम् फट् स्वाहा।।

कन्या के विवाह के लिए किस मंत्र का जाप करें – सम्पूर्ण जानकारी 

भृगु संहिता किताब कहां से खरीदें

अगर आप भृगु संहिता की किताब खरीदना चाहते है. तो आपके आसपास की किसी भी बुक स्टोर पर से खरीद सकते हैं. इसके अलावा ऑनलाइन माध्यम से भी आपको किताब आसानी से मिल जाएगी.

Bhrugu-Sanhita-ke-upay-mantr-jankari-kya-h (3)

इच्छा शक्ति मंत्रअर्थ, साधना, चमत्कार – इच्छा शक्ति कैसे बढ़ाएं

निष्कर्ष

दोस्तों आज हमने आपको इस आर्टिकल के माध्यम से भृगु संहिता के उपाय तथा भृगु संहिता की जानकारी दी हैं. इसके अलावा इस टॉपिक से जुडी अन्य और भी महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान की हैं. हम उम्मीद करते है की आज का हमारा यह आर्टिकल आपके लिए उपयोगी साबित हुआ होगा.

दोस्तों हम आशा करते है की आपको हमारा यह भृगु संहिता के उपाय, मंत्र – भृगु संहिता की जानकारी आर्टिकल अच्छा लगा होगा. धन्यवाद

रक्षा ताबीज बनाने की विधि / ताबीज में क्या भरा जाता है

अति प्राचीन शाबर मंत्र कौन सा है / शाबर मंत्र के नुकसान

मनमुटाव दूर करने का उपाय / रिश्तों में मिठास लाने के उपाय

1 thought on “भृगु संहिता के उपाय, मंत्र – भृगु संहिता की जानकारी”

Leave a Comment