पूजा करते समय हाथ जल जाना | घर के मंदिर में आग लगाना शुभ या अशुभ

पूजा करते समय हाथ जल जाना | घर के मंदिर में आग लगाना शुभ या अशुभ – हिंदू सनातन धर्म में देवी देवताओं की पूजा करने के लिए दीपक जलाना जरूरी हैं. बीना दीपक के पूजा करना अधूरी पूजा मानी जाती हैं. या फिर वह पूजा होती ही नहीं. वैसे तो पूजा विधि विधान के साथ करनी चाहिए. लेकिन अगर आप पूजा विधि विधान से नहीं करते हैं. तो सिर्फ दीपक जलाकर ही देवी-देवीताओं की पूजा करते सकते हैं.

Pooja-krte-samay-hath-jal-jana-ghar-ke-mandir-me-aag-shubh-ashubh (1)

पूजा में दीपक से ही आरती की जाती हैं. आरती के बाद की संपूर्ण पूजा मानी जाती हैं. लेकिन कई बार पूजा करते समय दीपक आदि से हमारा हाथ जल जाता हैं. ऐसा होना आपको कुछ न कुछ संकेत देता हैं. ऐसी घटना आपको क्या संकेत देती हैं. यह जानने के लिए हमारा यह आर्टिकल अंत तक जरुर पढ़े.

दोस्तों आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से पूजा करते समय हाथ जल जाना तथा घर के मंदिर में आग लगाना शुभ या अशुभ इसके बारे में बताने वाले हैं. इसके अलावा इस टॉपिक से जुडी अन्य और भी जानकारी प्रदान करने वाले हैं.

तो आइये हम आपको इस बारे में संपूर्ण जानकारी प्रदान करते हैं.

पूजा करते समय हाथ जल जाना

अगर पूजा करते समय हाथ जल जाता हैं. तो यह घटना हमारे लिए अशुभ मानी जाती हैं. ऐसा माना जाता है की पूजा करते समय अगर हाथ जल जाता हैं. तो आपको पूजा का पूर्ण फल नहीं मिलता हैं. इसलिए हमेशा पूजा करते समय ध्यान रखे की आपका हाथ न जले. अगर पूजा करते समय आपका हाथ जल जाता हैं. तो तुरंत प्रभु से माफ़ी मांगे और उनसे प्रार्थना करे.

श्री स्वामी समर्थ मंत्र जप लाभ | श्री स्वामी समर्थ विचार

घर के मंदिर में आग लगाना शुभ या अशुभ

घर के मंदिर में आग लगना अशुभ माना जाता हैं. घर के मंदिर में आग लगना यह घटना हमे संकेत देती हैं की आपके घर में कोई नकारात्मक उर्जा प्रवेश हुई हैं. नकारात्मक उर्जा प्रवेश होने पर हमारे घर में कलह आदि होने लगता हैं. तथा घर के सदस्य का स्वास्थ्य खराब होने लगता हैं.

भृगु संहिता के उपाय, मंत्र – भृगु संहिता की जानकारी

पूजा में जल पात्र किस तरफ रखें

पूजा में जल पात्र बाई तरफ रखना चाहिए.

पूजा करते समय क्या बोलना चाहिए

पूजा की शुरुआत करने से पहले आपको यह बोलना चाहिए की “ हे भगवान में आपका भक्त हु और में आपकी पूजा करना चाहता हु, मुझसे पूजा में कुछ भी भूल चुक हो सकती है, तो आप मेरे द्वारा पूजा में हुई भूल को माफ़ कर देना, अगर पूजा में कोई भूल हुई है तो क्षमा करे, मेरे अंदर अगर किसी भी प्रकार का अंहकार है, तो दूर करे, और आपकी पूजा श्रद्धा पूर्वक करने की शक्ति प्रदान करे, में अपने आपको आपके शरण में समर्पित करता हूं”.

पूजा शुरू करने से पहले इतना बोलने पर पूजा में हुई गलती भगवान के द्वारा माफ़ हो जाती हैं. इसके अलावा पूजा पूर्ण होने के बाद क्षमा याचना के लिए एक मंत्र भी बोल सकते हैं. मंत्र हमने नीचे बताया हैं.

Pooja-krte-samay-hath-jal-jana-ghar-ke-mandir-me-aag-shubh-ashubh (2)

सच्चा धर्म कौन सा है / सबसे पवित्र धर्म कौन सा है / असली धर्म कौन सा है

पूजा में क्षमा मांगने का मंत्र

आवाहनं न जानामि न जानामि विसर्जनम्। पूजां चैव न जानामि क्षमस्व परमेश्वर॥ मंत्रहीनं क्रियाहीनं भक्तिहीनं जनार्दन। यत्पूजितं मया देव! परिपूर्ण तदस्तु मे॥

आप पूजा करने के बाद इस मंत्र का जाप एक बार कर सकते हैं. इस मंत्र जाप से पूजा में हुई गलती भगवान के द्वारा माफ़ हो जाती हैं.

पूजाघर में कौनसी वस्तु कहा रखनी चाहिए

  • अगर आप तेल का दीपक करते है तो बाई तथा घी का दीपक करते है तो दाई तरफ रखे.
  • धूपदानी, घंटी तथा जल भरा पात्र पूजाघर में बाई तरफ रखे.
  • अगर आप पूजाघर में शंख रखते हैं. तो जल से भरा हुआ शंख दाई तरफ रखे.
  • जिस दिन आप भगवान को भोग लगाये भोग भगवान की प्रतिमा के बिलकुल सामने रखना चाहिए.
  • पूजाघर में हमेशा शुद्ध जल ही रखे.

Pooja-krte-samay-hath-jal-jana-ghar-ke-mandir-me-aag-shubh-ashubh (3)

शादी विवाह के श्लोक / शादी के सात वचन हिंदी में

निष्कर्ष

दोस्तों आज हमने आपको इस आर्टिकल के माध्यम से पूजा करते समय हाथ जल जाना तथा घर के मंदिर में आग लगाना शुभ या अशुभ इसके बारे में बताया हैं. इसके अलावा इस टॉपिक से जुडी अन्य और भी महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान की हैं.

हम उम्मीद करते है की आज का हमारा यह आर्टिकल आपके लिए उपयोगी साबित हुआ होगा. अगर उपयोगी साबित हुआ हैं. तो आगे जरुर शेयर करे. ताकि अन्य लोगो तक भी यह महत्वपूर्ण जानकारी पहुंच सके.

दोस्तों हम आशा करते है की आपको हमारा यह पूजा करते समय हाथ जल जाना / घर के मंदिर में आग लगाना शुभ या अशुभ आर्टिकल अच्छा लगा होगा. धन्यवाद

श्री कृष्ण स्तुति मंत्रराधा कृष्ण बीज मंत्रश्री कृष्ण शरणम नमामि मंत्र

कनकधारा पाठ करने की विधि – श्री कनकधारा स्तोत्र मंत्र तथा चित्र 

आदित्य हृदय स्तोत्र के फायदे, नियम / आदित्य हृदय स्तोत्र बीज मंत्र

2 thoughts on “पूजा करते समय हाथ जल जाना | घर के मंदिर में आग लगाना शुभ या अशुभ”

Leave a Comment